class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तस्करों ने वन कर्मियों पर की ताबड़तोड़ फायरिंग, फरार

खोराबार थाना क्षेत्र के सूबा वन बीट से पेड़ काट कर ले जा रहे तस्कर शनिवार की भोर में वन कर्मियों को देखते ही उनपर ताबड़तोड़ फायरिंग झोक दिए। संयोग अच्छा रहा कि गोली किसी कर्मी को नहीं लगी। बाद में तस्कर प्रेशर ट्राली पर लदे लकड़ी को गिरा कर वह फरार हो गए। वन कर्मियों की तहरीर पर खोराबार पुलिस ने एक नामजद समेत तीन अज्ञात के खिलाफ हत्या के प्रयास का मुकदमा दर्ज कर उनकी तलाश में जुट गई है।

खोराबार थाना क्षेत्र के सूबा वन बीट में हुई घटना
वन कर्मियों को देखते ही तस्करों ने की फायरिंग

          कुसम्ही जंगल के सूबा वन बीट के फारेस्ट गार्ड राजकरन वाचरों के साथ रात में गश्त पर निकले थे। सूबा वन बीट में पहुंचने पर ट्राली पर लकड़ी लादने की आवाज सुनाई दी। वह आवाज आने वाली दिशा में आगे बढ़े। अभी वह थोड़ा दूर ही आगे बढ़े थे कि तस्करों की नजर उनपर पड़ गई। वह वन कर्मियों पर अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दिए। वन कर्मी किसी प्रकार छुप कर अपने को सुरक्षित किए। वह 100 नंबर पर घटना की सूचना पुलिस कंट्रोल रूम को दी। पुलिस के पहुंचने से पहले ही तस्कर  प्रेशर ट्राली पर लदे लकड़ी को गिरा कर फरार हो गए। उधर, वन कर्मियों पर फायरिंग की सूचना पर वन विभाग के अधिकारी मौके पर पहुंच गए। वन कर्मियों की तहरीर पर पुलिस ने जंगल सिकरी गांव के प्रधान पति और आरा मशीन मालिक मुन्ना गुप्ता समेत तीन लोगों के खिलाफ 307, 332 और 506 के तहत मुकदमा दर्ज किया है। पुलिस इनके तलाश में जुट गई है। 

निरस्त होगा आरा मशीन का लाइसेंस
फायरिंग की सूचना पर पहुंचे डीएफओ एनके जानू ने बताया कि अभियुक्त मुन्ना गुप्ता के विरूद्ध कई मुकदमें दर्ज है। उसके आरा मशीन का लाइसेंस निरस्त की कार्रवाई की जाएगी। साथ ही डीएम और एसएसपी को उसके शस्त्र लाइसेंस निरस्त करने के लिए भी पत्र लिखा जाएगा। 

पुलिस पर हुए कुछ प्रमुख हमले
12 मई 2017 को चौरीचौरा क्षेत्र में मार्ग दुर्घटना में एक टेंट संचालक रामानन्द यादव की मौत हो गई। सूचना पर पीआरवी 333 मौके पर पहुंची। आक्रोशित लोगों ने पीआरवी की गाड़ी में तोड़फोड़ करने के साथ पुलिस कर्मियों पर हमला कर दिया। जिसमें एक एसआई घायल हो गया था। 

27 जून 2017 की रात गुलरिहा पुलिस पशु काटने की सूचना पर बड़हरिया गांव में छापेमारी करने पहुंची थी। ग्रामीणों न पुलिस टीम पर हमला कर दिया। जिसमें एक पुलिस कर्मी चोटिल हो गया। दूसरे दिन एसएसपी भारी पुलिस बल के साथ गांव में पहुंचे।

12 जुलाई 2017 को दिन में भूमि विवाद की सूचना पर पीपीगंज पुलिस मखनहा गांव के गंशापुर टोले में पहुंची थी। मनबढ़ों ने पुलिस पर हमला कर दिया। जिसमें एक सिपाही घायल हो गया। हमले की सूचना पर दलबल के साथ पहुंचे दरोगा पर भी मनबढ़ भारी पड़ गए थे। 

13 जुलाई 2017 की रात बांसगांव थाना क्षेत्र में पशु लादकर जा रही पीकअप का पीछा कर रहे कौड़ीराम चौकी प्रभारी पर पशु तस्करों ने गाड़ी चढ़ाने का प्रयास किया। जिसमें उनके पैर में चोट आई। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Tree smugglers firing on police and forest guards
दो कांवेंट स्कूलों के बीच चले ईंट-पत्थर, प्रबंधक और छात्रा घायलआयात-निर्यात कारोबारियों के लिए कस्टम कमिश्नर ने जारी की हेल्प लाइन