class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

झाड़ी में फेंकी मिली नवजात बच्ची

बसडीला गांव के बाहर पुलिया किनारे झाड़ी में शनिवार की सुबह 9 माह की मासूम बच्ची बिलखती हुई मिली। लोगों की सूचना पर पुलिस ने बच्ची को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में दाखिल कराया है। 


शनिवार की सुबह 4 बजे एक बच्चे के रोने की आवाज सुनी गई। कुछ महिला पुरुष पहुचे तो देखा कि एक सुन्दर सी बच्ची कपडे मे लिपटी हुई है। उसे झाड़ी से बाहर निकाला गया। बच्ची को देखने पर लोगो को लगा कि रात में प्रसव के बाद बच्ची को फेंका गया। कोई झंझट न हो इसके लिए लोगो ने तत्काल डायल 100 को सूचना दी। पीआरवी 332 की गाड़ी पहुंची। उस बच्ची के इलाज के लिए सीएचसी पंहुचा दी। बच्ची का वहां अस्पताल में देखरेख किया जा रहा है। पुलिस के मुताबिक कोई बच्ची को अपनाना चाहेगा तो उसे लिखित कार्यवाई के बाद ले सकता है।
सरकार बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के लिए लोगो को जागरूक कर रही है। बेटियो के आगे बढ़ने के लिए तमाम योजनाएं ला रही है।बहरहाल इस घटना ने लोगों को मर्माहत कर दिया है।

और मासूम को अपना बनाने को उठे दर्जनों हाथ 
चौरीचौरा के बसडीला गांव के बाहर पुलिया के किनारे शनिवार सुबह झाड़ी में जाने किस मजबूरी ने एक मा ने जिस बेटी को 9 माह तक पेट में पाला। लेकिन जन्म लेते ही उसे भगवान भरोसे छोड़ दिया। अब उसी बच्ची को गोद लेने के लिए दर्जनों हाथ उठे है। बच्ची के मिलने की सूचना पर चौरीचौरा और आसपास के तमाम लोग सीएचसी पर पहुंच गए। चिकित्सा अधीक्षक डॉ सर्वजीत प्रसाद से बेटी की मांग करने लगे। डॉक्टरों ने बच्चे को उपचार की आवश्यकता बताया। उसे जिला अस्पताल रेफर कर दिया। गोद लेने वाले बच्चे के साथ ही गोरखपुर सीएमओ के वहां रवाना हो गए। सीएचसी के डॉक्टरों ने सीएमओ कार्यालय पर बात करने की सलाह दी थी। उस नन्ही बच्ची को अपना बनाने की होड़ लग गई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Newborn girl thrown in a bush
स्वतंत्र देव की चेतावनी, परिवहन विभाग चारागाह नहीं, सुधर जाओदो दिन पहले घर से निकला था अमित, गड्ढे में मिली लाश