class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

VIDEO: गड़़बड़ी करने वाले अफसरों को प्रभारी मंंत्री का अल्‍टीमेटम

प्रदेश सरकार में सिंचाई मंत्री एवं गोरखपुर मण्डल के प्रभारी धर्मपाल सिंह ने कहा कि सिंचाई विभाग में अनियमिता करने वाले अधिकारियों-कर्मचारियों पर कार्यवाही अक्तूबर बाद की जाएगी। ऐसे अधिकारियों-कर्मचारियों पर नजर रखी जा रही है। धर्मपाल सर्क्रिट हाउस में पत्रकारों के सवालों का जवाब दे रहे थे।

उनके साथ एनआरआई, बाढ़ नियंत्रण, कृषि आयात, कृषि विपणन, कृषि विदेश व्यापार मंत्री स्वाति सिंह भी उपस्थित रही। 9 साल से कुशीनगर में तैनात एक्सईएन बाढ़ खण्ड का तबादला रोक देने के सवाल पर धर्मपाल ने कहा कि ऐसा बाढ़ की संभावना देखते हुए किया गया। लेकिन जब उनके पूछा गया कि 12 जुलाई को 42 सहायक अभियंता के स्थानांतरण कैसे किया जबकि सबसे ज्यादा जिम्मेदारी उन्हीं कांधे पर होती है?

धर्मपाल सिंह ने कहा कि सहायक अभियंताओं के स्थानांतरण में इस बात का ख्याल रखा गया कि बाढ़ की दृष्टी से संवेदनशील क्षेत्र से कोई न हो। उन्होंने कहा कि अक्तूबर के बाद अनियमिता बरते वाले अधिकारियों-कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई होगी। वार्ता के दौरान  गंडक संगठन में भी स्थाई मुख्य अभियंता और अधीक्षण अभियंता की तैनाती नहीं होने का मसला भी उठा जिस पर मंत्री कुछ स्पष्ट जवाब नहीं दे सके। गंडक संगठन में फैजाबाद के मुख्य अभियंता को अतिरिक्त प्रभार मिला है। हालांकि बाढ़ के दौरान इन वरिष्ठ अधिकारियों की उपलब्धता स्थाई रूप से बनी रहनी चाहिए।

एनडीआरएफ, सिंचाई विभाग और जिला प्रशासन के अधिकारी बनाएंगे तालमेल
मंत्री ने कहा कि एनडीआरएफ के अधिकारी जिला प्रशासन और सिंचाई विभाग के अधिकारियों के साथ समन्यवय स्थापित कर बाढ़ में फंसे लोगों को हर संभव मदद के लिए तत्पर रहेंगे। रखरखाव और मरम्मत का कार्य पूर्ण हो चुका है।

अंतरराष्ट्रीय समन्वयन के लिए मुख्य अभियंता स्तर के अधिकारी नामित
मंत्री ने बताया कि नेपाल एवं विभिन्न राज्यों से बाढ़ के दौरान समन्वयन बनाए रखने के लिए अंतरराष्ट्रीय समन्वयन के लिए मुख्य अभियंता स्तर के अधिकारी नामित किए गए हैं। ताकि बेहतर तालमेल और सूचना का आदान प्रदान बना रहे।

और बोले धर्मपाल,‘ योगी है मुख्यमंत्री, बारिश ने दिया यह शुभ संकेत’
धर्मपाल सिंह ने कहा कि बाढ़ पूरी तरह से दैवीय आपदा हैं। मुख्यमंत्री की चिंता है कि बाढ़ से इस बार न धनहानि हो न जनहानि हो। विपक्ष शोर मचा रहा है लेकिन मेरा मानना है कि जब राजा अन्यायी होता है तो सूखा पड़ता है। दैवीय आपदाएं आती है। यह पहली बार है, इतनी बारिश शुरू में ही हो रही है। योगी आदित्यनाथ गोरखपुर के मुख्यमंत्री हैं। यह शुभ-शगुन और शुभ संकेत हैं।

इस बार खेती भी अच्छी होगी। किसान भी ठीक रहेगा और सम्पन्नता भी आएगी। धर्मपाल सिंह सर्किट हाऊस में पत्रकारों से मुखातिब थे। उन्होंने कहा कि सामान्यता पूर्वांचल और सामान्यता तराई क्षेत्र बाढ़ से सबसे अधिक प्रभावित होता है। गोरखपुर शहर और जिला में बाढ़ से बचाव के लिए सभी जरूरी कदम उठा लिए गए हैं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Action against wrong doing officers after October: Minister In charge
चौकीदार की सर्पदंश मौतसेकेंडों में बर्बाद हो गया देवरिया का ये खुशहाल परिवार, हंसी-खुशी की जगह मचा कोहराम