class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तहजीब की गंगा में बढ़ता गया कारवां, लोगों ने निकाला अमन मार्च

March

गंगा जमुनी तहजीब के शहर में रविवार को भाईचारा, शांति और सद्भाव के लिए अमन मार्च शुरू हुआ तो उसमें दो तीन सौ लोग ही थे, लेकिन जब रैली आगे बढ़ी तो फिर कारवां में तब्दील हो गई। सभी धर्मो के लोग एक दूसरे का हाथ पकड़ कारवां जोड़ते गए।

जमीयत उलेमा हिन्द के बैनर तले और मुफ़्ती अबू ज़फर नोमानी के नेतृत्व में रैली क्या बड़े और क्या बच्चे इसमें दो कदम चलने को आतुर हो उठे। हर जुबा पर हिंदुस्तान जिन्दाबाद का नारा और प्रेम और सद्भाव का संदेश देने वाले स्लोगन थे। अमन, भाईचारे और आपसी मोहब्बत के स्वर रैली के दौरान गूंज रहे थे। सड़क किनारे खड़े लोग और दुकानों से लोग फूलों से इस्तकबाल कर रहे थे। मौलाना मोहम्मद यूनुस कासमी, मोहम्मद जिया खाँ, डॉ. तनवीर अहमद, पंडित सुशील पाठक, सरदार ज्ञानी काले सिंह आदि कारवां में अमन का पैगाम देते रहे। हर धर्म के बुद्धिजीवी वर्ग ने भी लोगों को मानवता का पाठ पढ़ाया और प्रेम व सद्भाव से रहने की सीख दी।

रैली सुबह 11 बजे कोतवाली स्थित अम्बेडकर पार्क से शुरू हुई और चौकी चोराहे होती हुई दामोदर पार्क पहुँची।वहाँ भी सभी लोगों ने अमन चैन, शांति, सद्भाव से रहने का पैगाम दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:People took out peace march in in bareilly
क्रांतिकारियों ने कत्ल कर दिए थे 40 अंग्रेज स्वतंत्रता दिवस: यह मस्जिद थी क्रांतिकारियों का ठिकाना, अंग्रजों के खिलाफ बनती थी रणनीति