class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जागरुकता: ट्रेन में चोरी होने पर सीधे फोन से कराएं FIR

ट्रेन में चोरी होने पर सीधे कराएं ई-एफआईआर

ट्रेन में यात्रा करने वालों को अब किसी अप्रिय स्थिति में मुकदमा दर्ज कराने के लिए परेशान नहीं होना पड़ेगा। वह अपने मोबाइल फोन से ही ई-एफआईआर दर्ज करा सकते हैं ।

यह जानकारी देते हुए एडीजी जीआरपी विनोद मौर्य ने बुधवार को पुलिस हेडक्वार्टर में प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि जीआरपी यात्रियों को जागरूक कर रही है। ट्रेनों में एसी कोच में अटेंडेंट का पुलिस वेरिफिकेशन नहीं हुआ रहता है। जीआरपी उसकी जांच कर रही है। सभी कोच अटेंडेंट को बताया गया है कि एसी कोच में अगर कोई चोरी या लूट की घटना होती है तो उसकी जिम्मेदारी उनकी होगी। कई मामलों में चोरी और लूट की घटनाओं में कोच अटेंडेंट के शामिल होने की बात सामने आई है ।हाल ही में इलाहाबाद हाईकोर्ट के न्यायमूर्ति कृष्ण सिंह की पत्नी का सामान चोरी होने के मामले में एडीजी ने कहा कि पुलिस टीम लगी है।

जल्द ही खुलासा हो जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि जीआरपी अब सिर्फ प्लेटफार्म पर ही कार्रवाई नहीं करेगी। जो भी शातिर अपराधी हैं उनके घर दबिश देगी। चाहे वह यूपी के बाहर के रहने वाले ही क्यों ना हों। जीआरपी की दबिश लगातार जारी रहेगी ताकि अपराधियों में खौफ बना रहे। जीआरपी और यूपी पुलिस को समायोजित करने के मामले में एडीजी का कहना था कि कमेटी का गठन किया गया है जिसकी अध्यक्षता वह खुद कर रहे हैं। कमेटी में आईजी क्राइम और लखनऊ के आईजी रेंज भी शामिल हैं। इसके क्या फायदे और क्या नुकसान हैं, इसका आकलन करने के बाद तय होगा कि क्या करना है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Now get e-FIR
एक लीटर कच्ची शराब पर 18 सौ रुपये तक जुर्मानावीरांगना ऊदा देवी शहीदी दिवस की छुट्टी 16 नवंबर को