Image Loading Tarakki - LiveHindustan.com
शनिवार, 03 दिसम्बर, 2016 | 23:11 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • 13000 करोड़ की सम्पति का खुलासा करने वाले गुजरात के कारोबारी महेश शाह को हिरासत में...
  • HT समिट: नोटबंदी पर पीएम मोदी ने जितनी हिम्मत दिखाई उतनी हिम्मत शराबबंदी में भी...
तरक्की
मनोरंजन
वजू करूं अजमेर में काशी में स्नान
​बेकल उत्साही उन चंद शख्सीयतों में हैं, जिन्हें सही मायने में गंगा-जमुनी तहजीब के लिए याद किया जाएगा। यह बेकल उत्साही ही थे, जिन्होंने उस दौर में उर्दू के मंच पर हिन्दी की धाक जमाई, जब वहां हिन्दी के लिए नाक-भौंह सिकोड़ी जाती थी।  09:22 PM
टाइम मैनेजमेंट: समय की इंजीनियरिंग में महारत है जरूरी 
बारहवीं की बोर्ड परीक्षाओं के साथ इंजीनियरिंग की प्रवेश परीक्षा के लिए तैयारी अपने आप में काफी मुश्किल है। इसमें सफलता के लिए जरूरत होती है सही रणनीति अपनाने की।  10:16 PM
अमित शाह, देश की सबसे बड़ी पार्टी भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष, जब बोलते हैं, जो बोलते हैं, जी-जान से बोलते हैं। पिछले दिनों लखनऊ में आयोजित ‘हिन्दुस्तान शिखर समागम’ में उन्होंने हिन्दुस्तान के प्रधान संपादक शशि शेखर के साथ नोटबंदी, महिला सशक्तिकरण, उत्तर प्रदेश में कानून-व्यवस्था और विकास के सवाल पर बेबाकी से अपनी राय रखी।  12:51 AM
 
धर्मक्षेत्रे
Image Loadingपरम लक्ष्य को पाने का पथ है प्रेम
प्रेम के बिना जीवन एक कदम भी आगे नहीं चल सकता। जीवन प्रेम से ही प्रकट हुआ है, प्रेम से ही चलता है और प्रेम में ही विलीन हो जाता है। हरेक इच्छा के पीछे प्रेम है। फिर भी हमने देखा है कि प्रेम के साथ समस्या नाम की पूंछ भी आती है।
 
एक व्यक्ति को रास्ते में यमराज मिल गये, यमराज ने उससे पीने के लिए पानी मांगा। उस व्यक्ति ने उन्हें पानी पिलाया।
 
Image Loadingसदैव पवित्र रखें अपना घर और स्थान
जिस भूमि में जैसे कर्म किए जाते हैं, वैसे ही संस्कार वह भूमि भी प्राप्त कर लेती है। इसलिए गृहस्थ को अपना घर सदैव पवित्र रखना चाहिए। 
 
Image Loadingमाया को जेब में स्थान दो, हृदय में नहीं
गुरु जी ने कहा कि परमात्मा एक है, परंतु उनके रूप अनेक हैं। वो सभी का भला-बुरा सोचने वाला है। वह धरती पर आने के लिए मनुष्य का रूप लेते हैं।
 
शब्द
​बेकल उत्साही उन चंद शख्सीयतों में हैं, जिन्हें सही मायने में गंगा-जमुनी तहजीब के लिए याद किया जाएगा। यह बेकल उत्साही ही थे, जिन्होंने उस दौर में उर्दू के मंच पर हिन्दी की धाक जमाई, जब वहां हिन्दी के लिए नाक-भौंह सिकोड़ी जाती थी।
 
Image LoadingBOOK REVIEW: इंटरनेट युग की ये प्रेम कहानी भी वर्चुअल ज्यादा लगती है
‘वो स्वाइप करके उतर गई मेरे दिल में’ सुदीप नगरकर की अंग्रेजी नाॅवेल ‘शी स्वाइप्ड राइट इनटू माय हार्ट’ का हिंदी अनुवाद है। नगरकर पहले से ही रोमांटिक नाॅवेल्स के कारण जाने-पहचाने नाम बन चुके हैं।
 
Image Loadingकहानी आदिवासियों की जहां मानवता शर्मसार, पढ़ें ये किताब...
‘आदिवासी नहीं नाचेंगे’ झारखंड की पृष्ठभूमि पर लिखी गई संथाल आदिवासियों की कहानियां हैं। आदिवासी नहीं नाचेंगे शीर्षक वस्तुतः पुस्तक में संग्रहित कहानियों का निचोड़ है, क्योंकि आदिवासी वर्षों से नाच रहे हैं कभी नियति की कठपुतली बन, कभी शासन की तो कभी रसूखदार लोगों की
 
दास्तां कहते-कहते’ श्रृंखला के तहत चार शायरों की चार किताबें हिंदी जुबान में छप कर आई हैं। वाणी प्रकाशन, दिल्ली से आई इन किताबों में से दो उर्दू से अनूदित हैं, जबकि दो हिंदी की हैं। इनसे हिंदी-उर्दू, हिंदुस्तान और पाकिस्तान, उम्रदराज पीढ़ी और युवा पीढ़ी, गुजिश्ता और मौजूदा दौर आदि अनेक चीजों के बारे में एक दिलचस्प और जरूरी तस्वीर बनती है।
 
यतींद्र मिश्र की सद्य प्रकाशित पुस्तक ‘लता सुर-गाथा’ लता मंगेशकर की लोकप्रिय छवि से अलग उनकी कला की सम्पूर्णता को जानने-समझने का गंभीर प्रयास है।
 
यह हिंदी साहित्य की स्वातंत्र्योत्तर प्रगतिशील काव्यधारा के शीर्ष कवि गजानन माधव मुक्तिबोध का जन्मशती वर्ष है। इसी 13 नवंबर को उन्होंने 100वें वर्ष में प्रवेश किया। प्रस्तुत है हिंदी साहित्य में सर्वाधिक चर्चा में रहे कवि-कथाकार-समीक्षक मुक्तिबोध पर वरिष्ठ कवि-आलोचक अशोक वाजपेयी की टिप्पणी और साथ में मुक्तिबोध की दो कविताएं व कुछ अन्य सामग्री-
 
जाने-माने पत्रकार और राजनीतिक टिप्पणीकार उर्मिलेश की किताब ‘कश्मीर—विरासत और सियासत’ संभवत: हिंदी भाषा में लिखी गई पहली किताब है, जो सरहदी सूबे के आधुनिक राजनीतिक इतिहास के साथ न्याय करती है।
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
लाइवहिन्दुस्तान पर अन्य ख़बरें
From around the Web