शुक्रवार, 28 अगस्त, 2015 | 05:44 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
शीना बोरा के इस्तीफे पर फर्जी साइनः राकेश मारिया।
गुजरात में जोर शोर से हो रहा प्रचार
अहमदाबाद, एजेंसी First Published:10-12-2012 02:46:49 PMLast Updated:10-12-2012 05:59:29 PM
Image Loading

गुजरात में विधानसभा चुनाव के तहत 13 दिसंबर को होने वाले पहले चरण के मतदान के लिए प्रचार तेज हो गया है, क्योंकि पार्टियों के लिए मतदाताओं को अपने पक्ष में लुभाने के वास्ते मंगलवार का दिन आखिरी है।

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी पाटन जिले के सिद्धपुर शहर और खेड़ा जिले के डकोर के निकट सोमवार को दो चुनावी रैलियों को संबोधित कर रही हैं। मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी 3-डी होलोग्राफिक प्रोजेक्शन टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करके एक साथ 53 स्थानों पर रैली को संबोधित करेंगे।

इसके अलावा वह लोगों को संबोधित करने के लिए राज्य में छह चुनावी रैलियों में भी आज उपस्थित रहेंगे। जहां प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कल गुजरात में एक रैली को संबोधित किया था वहीं कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी कल साणंद, जामनगर और अमरेली में तीन रैलियों को संबोधित करेंगे।

राज्य में विधानसभा चुनाव के पहले चरण के मतदान के लिए चुनाव प्रचार कल शाम पांच बजे समाप्त हो जाएगा। दूसरे चरण का मतदान 17 दिसंबर को होना है। चुनाव प्रचार 15 दिसंबर की शाम को समाप्त होगा।

मोदी के मणिनगर विधानसभा क्षेत्र में दूसरे चरण में मतदान होगा। चुनाव की घड़ी जैसे-जैसे नजदीक आ रही है सत्तारूढ़ भाजपा और विपक्षी कांग्रेस दोनों ने एक-दूसरे पर हमले तेज कर दिए हैं।

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कल कहा कि राज्य को विभाजनकारी राजनीति से छुटकारा दिलाने का वक्त आ गया है। उन्होंने इस बात पर खेद प्रकट किया कि राज्य में अल्पसंख्यक असुरक्षित महसूस कर रहे हैं।

सिंह ने कहा कि गुजरात को इस तरह की राजनीति से मुक्ति दिलाने और उन लोगों की सत्ता में वापसी नहीं करने देने का वक्त आ गया है जो हमारे समाज और देश को बांटकर वोट हासिल करने का प्रयास कर रही हैं।

हालांकि, गुजरात में अल्पसंख्यकों के असुरक्षित महसूस करने के प्रधानमंत्री के आरोपों का खंडन करते हुए मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनपर अल्पसंख्यक समुदाय के नाम पर वोटबैंक की राजनीति करने का आरोप लगाया।

मोदी ने वलसाड शहर में कल एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री जिन्होंने आज गुजरात का दौरा किया वह अल्पसंख्यकों और बहुसंख्यकों के नाम पर वोट बैंक की राजनीति कर रहे हैं। यह दुखद है कि देश का प्रधानमंत्री वोट बैंक की राजनीति से ऊपर नहीं उठ सका।

 

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

जब पप्पू पहंचा परीक्षा देने...
अध्यापिका: परेशान क्यों हो?
पप्पू ने कोई जवाब नहीं दिया।
अध्यापिका: क्या हुआ, पेन भूल आये हो?
पप्पू फिर चुप।
अध्यापिका : रोल नंबर भूल गए हो?
अध्यापिका फिर से: हुआ क्या है, कुछ तो बताओ क्या भूल गए?
पप्पू गुस्से से: अरे! यहां मैं पर्ची गलत ले आया हूं और आपको पेन-पेंसिल की पड़ी है।