सोमवार, 31 अगस्त, 2015 | 01:28 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
जीपीपी के टिकट पर गुजरात विधानसभा चुनाव लड़ेंगी हरेन पंड्या की पत्नी
अहमदाबाद, एजेंसी First Published:29-11-2012 02:39:22 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

भाजपा के पूर्व मंत्री हरेन पंड्या की पत्नी जागृति पंड्या ने गुरुवार को घोषणा की कि वह अपने दिवंगत पति के लिए जनता की अदालत से न्याय प्राप्त करने के लिए अहमदाबाद के एलिसब्रिज विधानसभा क्षेत्र से गुजरात परिवर्तन पार्टी (जीपीपी) के टिकट पर चुनाव लड़ेंगी।

हरेन पंड्या की 26 मार्च 2003 को हत्या कर दी गई थी। वह उससे पहले राज्य की केशुभाई पटेल सरकार में गह राज्य मंत्री थे। पूर्व मुख्यमंत्री पटेल ने भाजपा से विद्रोह किया और अपनी नई पार्टी जीपीपी बनाई। जागृति पंड्या ने कहा है कि मेरे पति की हत्या राजनीतिक हत्या थी। मैं उन्हें न्याय दिलाने के लिए गत 10 वर्षों से कानूनी लड़ाई लड़ रही हूं, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ, लेकिन मैं अपनी लड़ाई जारी रखूंगी।

उन्होंने अपनी उम्मीदवारी की घोषणा करने के साथ ही भावुक अपील करते हुए कहा कि मुझे भाजपा से कोई समर्थन नहीं मिला। मेरे पति ने अपना जीवन पार्टी को समर्पित कर दिया, लेकिन उन्हें नहीं पता था कि उन्हें धोखा मिलेगा। उन्होंने मोदी की ओर इशारा करते हुए कहा कि भाजपा एक विचारधारा वाली पार्टी रही है, लेकिन यहां पर यह एक व्यक्ति का संगठन बन गया है।

उन्होंने कहा कि इसी कारण से मैंने चुनाव गुजरात परिवर्तन पार्टी के टिकट पर लड़ने का फैसला किया है, जो पंडित दीनदयाल की असली विचारधारा का पालन कर रही है। हालांकि, मुझे अपने पति के लिए कानूनी लड़ाई में न्याय नहीं मिला, लेकिन मुझे इस बात का भरोसा है कि जनता की अदालत में न्याय अवश्य मिलेगा। जागृति पंड्या एलिसब्रिज विधानसभा सीट से चुनाव लड़ेंगी, जहां से हरेन पंडया ने तीन बार जीत दर्ज की।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingकोलंबो टेस्ट: भारत को 132 रनों की बढ़त
इशांत शर्मा ( 54 रन पर पांच विकेट) की घातक गेंदबाजी और इससे पहले ओपनर चेतेश्वर पुजारा (नाबाद 145) रन के शानदार प्रदर्शन की बदौलत भारत ने यहां तीसरे और निर्णायक टेस्ट मैच के तीसरे दिन रविवार को अपना शिकंजा कसते हुये मेजबान श्रीलंका के खिलाफ 111 रन की महत्वपूर्ण बढ़त हासिल कर ली।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

सीसीटीवी कैमरों का जमाना है...
पिता: एक समय था, जब मैं 10 रुपए में किराना, दूध, सब्जी और नाश्ता ले आता था..
बेटा: अब संभव नहीं है, पापा अब वहां सीसीटीवी कैमरे लगे होते हैं।