Image Loading trump travel restriction - Hindustan
सोमवार, 27 मार्च, 2017 | 10:17 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • बॉलीवुड मसाला: दूसरे दिन 'फिल्लौरी' ने पकड़ी रफ्तार, कमाए इतने करोड़, यहां पढ़ें,...
  • भारतीय नागरिकता मिलने के दो दिन बाद ही शॉन टैट ने क्रिकेट के हर फॉरमैट से...
  • #INDvsAUS: तीसरे दिन का खेल शुरू, टीम इंडिया का स्कोर 248/6, रिद्धमान साहा (10) और रविंद्र...
  • टॉप 10 न्यूज: यूपी में आज भी हड़ताल पर होंगे मीट और मछली व्यापारी, सुबह 9 बजे तक की...
  • हिन्दुस्तान ओपिनियन: बिमटेक के डायरेक्टर हरिवंश चतुर्वेदी का विशेष लेख- पिछड़ता...
  • पंजाब: गुरदासपुर में BSF जवानों ने पहाड़ीपुर पोस्ट के पास एक पाकिस्तानी...
  • हेल्थ टिप्स: सीढ़ी चढ़ने से कम होता है हार्ट अटैक का खतरा, क्लिक कर पढ़ें
  • मौसम दिनभर: दिल्ली-एनसीआर, लखनऊ, पटना, रांची और लखनऊ में होगी तेज धूप।
  • ईपेपर हिन्दुस्तान: आज का समाचार पत्र पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।
  • आपका राशिफल: मिथुन राशि वालों के आय में वृद्धि होगी, अन्य राशियों का हाल जानने के...
  • सक्सेस मंत्र: अवसर जरूर द्वार खटखटाते हैं, बस पहचानना आना चाहिए, क्लिक कर पढ़ें
  • टॉप 10 न्यूज: कश्मीर में आतंक-PDP मंत्री के घर पर हमला, दो पुलिसकर्मी हुए घायल, अन्य...

ट्रंप का यात्रा प्रतिबंध

First Published:20-03-2017 12:11:07 AMLast Updated:20-03-2017 12:11:07 AM

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और देश की निचली संघीय अदालतें शायद पिंग-पांग का खतरनाक खेल रहे हैं, जिसका खामियाजा देश की सुरक्षा को भुगतना पड़ रहा है। राष्ट्रपति, जिन पर देश की सुरक्षा का दारोमदार है, वह कुछ सोचकर कुछ नया प्रस्ताव करते हैं, तो कुछ जज हैं, जो उसे रद्द कर देते हैं। राष्ट्रपति फिर प्रस्ताव करते हैं, जज उसे फिर रद्द कर देते हैं। होनोलूलू के जिला जज डेरिक वाट्सन ने ट्रंप के यात्रा वीजा बैन वाले आदेश पर 50 दिन के लिए अस्थायी रोक लगा दी।

जज का तर्क था कि हवाई राज्य और वहां के एक मुस्लिम नेता द्वारा लाया गया विधेयक पारित हो जाने से इस मामले में कोई स्थायी समाधान निकल जाएगा, इस बात का पूरा भरोसा है। उन्होंने यह भी कहा कि ट्रंप का आदेश अन्य बातों के अलावा हवाई के पर्यटन उद्योग को नुकसान पहुंचाने वाला है। यह भी कि आदेश निश्चित तौर पर सुरक्षा हितों से खिलवाड़ और चंद लोगों के हित साधने वाला है। याद दिला दें कि जज मेरिक की नियुक्ति राष्ट्रपति ओबामा ने की थी। ट्रंप पहले ही इस बारे में किसी भी हद तक जाने की बात कह चुके हैं। उनकी बातों में उनकी जिद साफ दिखाई देती है। वह कहते हैं,‘खतरा भी स्पष्ट है, कानून भी स्पष्ट है। मेरे कार्यकारी आदेश की जरूरत भी स्पष्ट है।’ वह कानून और जजों का मखौल उड़ाने से भी नहीं चूकते।

राष्ट्रपति ट्रंप का पहला आदेश तो सिएटल के जज ने रोक ही दिया, लेकिन इराक को प्रतिबंध की सूची से बाहर करके जारी हुआ दूसरा आदेश भी जज वाट्सन को संतुष्ट नहीं कर सका। उनका मानना था कि कोई भी तार्किक और तटस्थ व्यक्ति ट्रंप के आदेश को एक क्षेत्र विशेष के साथ भेदभाव के रूप में ही देखेगा, न कि धार्मिक रूप से तटस्थ प्रयास के रूप में, जैसा कि बताया जा रहा है। मेरीलैंड के एक जज ने भी इसे ट्रंप के चुनाव के दौरान मुसलमानों पर दिए गए भाषणों या वादों के विस्तार के रूप में ही रेखांकित किया। देखना चाहिए कि संघीय जजों ने हमेशा राष्ट्रीय सुरक्षा के नजरिये से ही फैसले दिए हैं। जज वाट्सन भी इसका अपवाद नहीं हैं।
वाशिंगटन टाइम्स, अमेरिका

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: trump travel restriction
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
संबंधित ख़बरें