बुधवार, 29 जुलाई, 2015 | 12:23 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
सुप्रीम कोर्ट ने फैसला दिया, राजीव गांधी के हत्यारों को फांसी नहीं होगी, तीनों हत्यारों को उम्रकैद मिलीअंशू गुप्ता और संजीव चतुर्वेदी को रनम मैगसेसे अवॉर्ड मिला, एनजीओ गूंज की संस्थापक हैं अंशू गुप्ता, भष्टाटार से लड़ाई पर संजीव चतुर्वेदी को मिला अवॉर्डछत्तीसगढ़ में आयकर विभाग की छापेमारी, 120 अधिकारियों की टीम मौके पर, पॉवर प्लांट कारोबारियों के यहां छापेमारी
पाकिस्तानी सेना ने फिर किया संघर्ष विराम का उल्लंघन
जम्मू, एजेंसी First Published:09-01-2013 03:52:33 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

भारत के दो सैनिकों की बर्बर हत्या से गर्म हुए माहौल के बाद पाकिस्तानी सेना ने दो बार संघर्ष विराम का उल्लंघन कर जम्मू-कश्मीर के पुंछ जिले में भारतीय चौकियों पर गोलीबारी की और गोले दागे।
    
सेना के एक प्रवक्ता ने बताया कि पाकिस्तानी सेना ने कल रात पुंछ जिले के कृष्णाघाटी सेक्टर में नंगीटीकरी अग्रिम ठिकाने पर स्थित भारत की चौकियों पर मोर्टार और ग्रेनेड दागे। प्रवक्ता ने बताया कि आधे घंटे से भी अधिक वक्त तक मोर्टार दागे गये और सीमा पर मौजूद सेना के जवानों ने संयम बरकरार रखते हुए कोई जवाबी कार्रवाई नहीं की।
    
उन्होंने बताया कि दूसरी घटना लगभग चार बजे हुई, जब पाकिस्तानी सैनिकों ने नंगीटीकरी अग्रिम इलाके में भारत की चौकियों पर गोलियां बरसाईं। यह गोलीबारी आधे घंटे से भी अधिक वक्त तक जारी रही। प्रवक्ता ने बताया कि गोलीबारी और मोर्टार हमलों में कोई भी हताहत नहीं हुआ है।
    
गौरतलब है कि पाकिस्तानी सैनिकों ने कल पुंछ जिले में नियंत्रण रेखा के पास भारतीय सरजमीं में करीब 100 मीटर अंदर घुस कर गश्ती दल पर हमला किया और दो लांस नायकों हेमराज और सुधाकर सिंह की हत्या करने के अलावा दो अन्य सैनिकों को भी घायल कर दिया।
    
सूत्रों ने बताया कि दोनों भारतीय सैनिकों सिर काट दिए गए थे और एक सिर पाकिस्तानी हमलावर अपने साथ ले गये। सेना के प्रवक्ता ने बताया कि पाकिस्तानी सेना ने पिछले एक हफ्ते के दौरान जम्मू कश्मीर में चार बार संघर्षविराम का उल्लंघन किया है।
    
उन्होंने बताया कि छह जनवरी को पाकिस्तानी सैनिकों ने भारत-पाक सीमा पर उरी सेक्टर में भारत की चौकियों पर मोर्टार दागे थे। पाकिस्तानी सैनिकों ने चार जनवरी को नंगीटेकरी इलाके में भारतीय चौकियों पर तीन-चार मोर्टार दागे थे।
    
जम्मू कश्मीर में वर्ष 2012 के दौरान भारत-पाक सीमा पर सीमा पार से गोलीबारी और संघर्षविराम की 71 घटनाएं हुईं, जिनमें चार सुरक्षाकर्मियों समेत सात लोग मारे गए और 15 अन्य घायल हुए।
    
वर्ष 2011 के दौरान सीमा पार से गोलीबारी एवं संघर्षविराम की 51, वर्ष 2010 के दौरान 44 और वर्ष 2009 के दौरान 28 घटनाएं हुईं।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingप्रतिबंध हटाने के लिए बीसीसीआई से संपर्क करूंगा: श्रीसंत
जब वह तिहाड़ जेल में था तो वह आत्महत्या के बारे में सोच रहा था लेकिन तेज गेंदबाज एस श्रीसंत को अब उम्मीद बंध गई है कि वह वापसी कर सकते हैं और खुद पर लगे प्रतिबंध को हटाने के लिये वह बीसीसीआई से संपर्क करेंगे।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड