शनिवार, 20 दिसम्बर, 2014 | 15:09 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
झारखंड विधानसभा के पांचवें और आखिरी चरण के मतदान का समय खत्म हो गया है।झारखंड विधानसभा के पांचवें और आखिरी चरण का मतदान खत्म होने में बस 10 मिनट बाकी हैं। 'हिन्दुस्तान' आपसे अपील करता है कि आप भी अपने मताधिकार का प्रयोग करें।झारखंड : लिट्टीपाड़ा विधानसभा क्षेत्र के पांच बूथों पर दोपहर 1 बजे तक 80 प्रतिशत से अधिक मतदान हुआजम्मू: बिशनाह चुनाव क्षेत्र में मतदान केन्द्र संख्या 27 में कुल 640 वोटर हैं और मतदान के पहले घंटे में 72 प्रतिशत मतदान हो चुका है।जम्मू: बानी में 15.22 प्रतिशत, हरीनगर 15.02 प्रतिशत, बिशनाह में 14 प्रतिशत, मारह 12 प्रतिशत, कठुआ में 11.71 प्रतिशत, बशोली में 11 प्रतिशत, बिल्लावर में 10.25 प्रतिशत और गांधीनगर एवं जम्मू पूर्व में 10 प्रतिशत मतदान हुआ है।जम्मू: जम्मू पश्चिम और नौशेरा में नौ-नौ प्रतिशत और डरहाल में 8.50 प्रतिशत एवं कालकोट में 7.15 प्रतिशत मतदान हुआ है।जम्मू: जम्मू जिले के गांधीनगर विधानसभा में केंद्रीय विद्यालय में तीन मतदान केंद्र बनाए गए हैं। इस केंद्र पर पहले आधे घंटे में लगभग 50 मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया।जम्मू: गांधीनगर इलाके एक पोलिंग स्टेशन पर निर्वाचन अधिकारियों ने मतदाताओं के लिए चाय की व्यवस्था भी की है।जम्मू: कठुआ जिले में सीमवर्ती निर्वाचन क्षेत्र हीरानगर में महिला मतदाताओं की संख्या, पुरुष मतदाताओं से अधिक रही। कठुआ जिले के दूर-दराज के बानी और बिलावर निर्वाचन क्षेत्रों में मतदान प्रक्रिया की शुरुआत धीमी रही।जम्मू: राजौरी जिले की राजौरी, दारहल, कालकोट और नौशेरा में भी सुबह के समय मतदान प्रक्रिया सुस्त रही।झारखंड: दोपहर 1 बजे तक जामताड़ा-57, नाला-56, बोरियो-45, राजमहल-43, बरहेट-47, पाकुड़-61, लिट्टीपाड़ा-59, महेशपुर-58, दुमका-44, जामा-56, जरमुंडी-57, शिकारीपाड़ा-60, सारठ-59, पोड़ैयाहाट-56, गोड्डा-47, महगामा-48 प्रतिशत मतदान हुआ
जीपीएस एप्लीकेशन लाएगा सड़क दुर्घटनाओं में कमी
तेल अविव, एजेंसी First Published:05-01-13 08:52 PM

'वेज' जैसी जीपीएस ट्रैफिक एप्लीकेशन के जरिए सबसे अधिक दुर्घटना वाले स्थानों पर पुलिस की उचित तैनाती कर सड़क दुर्घटनाओं को कम किया जा सकता है। यह जानकारी हाल ही में हुए एक अध्ययन से मिली है।

वेज लोकेशन डाटा को रिकार्ड करता है और उपयोगकर्ताओं को यातायात, दुर्घटनाओं और पुलिस उपस्थिति सहित अन्य तरह की जानकारी अपलोड और उस पर टिप्पणी करने की आजादी देता है।

वेज वेबसाइट का कहना है कि दुनिया भर में उसके लगभग तीन करोड़ उपयोगकर्ता हैं। वेबसाइट ने स्वयं का वर्णन एकसमुदाय आधारित ट्रैफिक और नेविगेशन एप्लीकेशन के रूप में किया है, जिसके उपयोगकर्ता वास्तविक समय पर यातायात और सड़क की जानकारी साझा कर समय और इंधन की बचत कर सकते हैं।

अध्ययन का नेतृत्व करने वाले बेन-गुरियन यूनिवर्सिटी ऑफ नेगेव (बीजीयू) के पीएचडी के छात्र माइकल फायर ने बताया, ''केवल अब हम दैनिक रूप से बड़ी मात्रा में एकत्र डाटा की क्षमता की खोज की शुरुआत कर रहे हैं।''

विश्वविद्यालय के बयान के अनुसार, ''यातायात दुर्घटनाओं जैसी घटनाओं की समय से निगरानी करने सम्बंधी यह अध्ययन पुलिस को वास्तविक समय पर सड़क के खतरे वाले स्थानों की पहचान और उसके विकल्पों का पता लगाने में मदद प्रदान करेगा।''

 
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड