रविवार, 26 अक्टूबर, 2014 | 02:09 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    राजनाथ सोमवार को मुंबई में कर सकते हैं शिवसेना से वार्ता नरेंद्र मोदी ने सफाई और स्वच्छता पर दिया जोर मुंबई में मोदी से उद्धव के मिलने का कार्यक्रम नहीं था: शिवसेना  कांग्रेस ने विवादित लेख पर भाजपा की आलोचना की केन्द्र ने 80 हजार करोड़ की रक्षा परियोजनाओं को दी मंजूरी  कांग्रेस नेता शशि थरूर शामिल हुए स्वच्छता अभियान में हेलमेट के बगैर स्कूटर चला कर विवाद में आए गडकरी  नस्ली घटनाओं पर राज्यों को सलाह देगा गृह मंत्रालय: रिजिजू अश्विका कपूर को फिल्मों के लिए ग्रीन ऑस्कर अवार्ड जम्मू-कश्मीर और झारखंड में पांच चरणों में मतदान की घोषणा
जान केरी हैं भारत के मित्र
वाशिंगटन, एजेंसी First Published:22-12-12 08:48 PMLast Updated:22-12-12 08:53 PM
Image Loading

सीनेटर जॉन केरी विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन की जगह अगले विदेश मंत्री के रूप में राष्ट्रपति बराक ओबामा के पसंद हैं, और केरी को भारत का एक सच्चा मित्र माना जाता है। उन्होंने अमेरिका के अंतर्राष्ट्रीय मामलों में भारत की केंद्रीय भूमिका की वकालत की है।

यदि क्लिंटन के लिए नई दिल्ली का वाशिंगटन के साथ रिश्ता 'एक दिली मामला' है, तो सीनेट की फॉरेन रिलेशंस कमेटी के अध्यक्ष केरी (69) भारत-अमेरिका संबंधों को अमेरिकी विदेश नीति में निस्संदेह एक सबसे महत्वपूर्ण साझेदारी मानते हैं।

केरी ने फरवरी में अमेरिकी राजदूत के रूप में भारत में कार्यभार सम्भालने वाली नैंसी पॉवेल के नाम पर अंतिम मुहर लगने के लिए आयोजित सुनवाई के मौके पर कहा था कि ऐसे चंद रिश्ते ही हैं, जो 21वीं सदी में भारत और वहां के लोगों के साथ हमारे बढ़ रहे रिश्ते की तरह महत्वपूर्ण होंगे।

केरी ने कहा कि हमारे सामने जो भी गम्भीर वैश्विक चुनौतियां हैं, उसमें भारत को एक केंद्रीय भूमिका निभानी है। और इसका अर्थ यह होता है कि वाशिंगटन, नई दिल्ली की ओर देखने जा रहा है, न सिर्फ सहयोग के लिए, बल्कि उन्नयन, क्षेत्रीय नेतृत्व के लिए भी।

केरी ने आगे कहा कि हममें से कई सारे लोग कुछ समय से भारत के बढ़ रहे महत्व को लेकर स्पष्ट हो चुके हैं। केरी 1990 के दशक से अब तक कई बार भारत आ चुके हैं, और भारत में आर्थिक सुधार के ठीक बाद पहली बार आए एक व्यापारिक मिशन का उस समय उन्होंने नेतृत्व किया था।

मेसाचुसेट्स के वरिष्ठ सीनेटर केरी, जो कि अपने अनुभव, गम्भीरता और संबंध विकास कौशल के लिए जाने जाते हैं, ओबामा के उस विचार के भी प्रबल समर्थक हैं, जिसके तहत वह भारत को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में एक स्थायी सदस्य के रूप में देखना चाहते हैं।

केरी की नियुक्ति के बारे में शुक्रवार को घोषणा करते हुए ओबामा ने उनके असाधारण उल्लेखनीय सीनेटर के करियर की और वियतनाम युद्ध में दिए गए सैन्य सेवा की प्रशंसा की। ओबामा ने कहा कि इन कई वर्षो के दौरान जॉन ने दुनियाभर के नेताओं का आदर और भरोसा अर्जित किया है। उन्हें अपनी नई जिम्मेदारी के लिए बहुत प्रशिक्षण लेने की आवश्यकता नहीं है।

इस घोषणा के वक्त क्लिंटन मौजूद नहीं थीं, क्योंकि वह अभी भी एक चोट से उबर रही हैं। लेकिन उन्होंने एक बयान जारी कर केरी के चयन को शानदार बताया है।

 
 
 
 
टिप्पणियाँ