गुरुवार, 28 मई, 2015 | 19:27 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    मोदी ने अर्थव्यवस्था का ज्ञान बढ़ाने के लिए ली मनमोहन से क्लासः राहुल लोकलुभावन रास्ते की बजाय अधिक कठिन मार्ग चुना :मोदी CBSE 10th रिजल्ट: 94,447 छात्रों को मिला 10 सीजीपीए सोनिया की मौजूदगी में हुई बैठक, पास हुआ मोदी के खिलाफ निंदा प्रस्ताव जेट एयरवेज की टिकटों पर 25 प्रतिशत छूट की पेशकश रायबरेली पहुंची सोनिया गांधी व्यापम घोटाला: अब तक जांच से जुड़े 40 लोगों की मौत त्रिपुरा सरकार ने राज्य में 18 सालों से लगा अफस्पा हटाया गुर्जर आंदोलन: जयपुर पहुंचे बैंसला, आरक्षण पर होगी चर्चा कुछ इस तरह हुई फीफा के 14 अधिकारियों की गिरफ्तारी
हाईकोर्ट के फैसले से चिश्ती का परिवार खुश
इस्लामाबाद, एजेंसी First Published:09-04-12 04:35 PM
Image Loading

राजस्थान की जेल में बंद 80 वर्षीय पाकिस्तानी नागरिक खलील चिश्ती के परिवार ने आज चिश्ती को जमानत पर रिहा करने संबंधी भारत के उच्चतम न्यायालय के आदेश पर खुशी जताई।
     
चिश्ती की बेटी शोहा ने भावुक होकर मीडिया से कहा कि उन्होंने टीवी पर अपने पिता को जमानत पर रिहा करने की खबर देखी है। उन्होंने कहा कि हम सभी बहुत खुश हैं। मैंने घर पर आकर अपनी मां को बताया जिन्होंने विशेष नमाज अदा कर खुदा को शुक्रिया कहा।
     
उन्होंने कहा कि खुदा की मेहरबानी और भारतीय तथा पाकिस्तानियों के अथक प्रयास से उनकी जमानत पर रिहाई संभव हो सकी। चिश्ती वर्ष 1992 के हत्या के एक मामले में अजमेर जेल में आजीवन सजा काट रहे हैं। शोहा ने कहा कि परिवार ने पिछले साल दिसंबर में चिश्ती से अंतिम बार मुलाकात की थी।
     
शोहा ने कहा कि उन्होंने और उनकी बहन आमना ने पांच अप्रैल को राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी को पत्र लिखा था जिसमें भारतीय नेतृत्व के साथ उनके पिता का मामला उठाने का अनुरोध किया गया था।
     
पाकिस्तान के प्रमुख मानवाधिकार कार्यकर्ता अंसार बर्नी ने भी भारतीय उच्चतम न्यायालय के आदेश का स्वागत करते हुए कहा कि उनका एनजीओ अब चिश्ती को पाकिस्तान वापस लाने के लिए प्रयास करेगा। बर्नी ने कहा कि बुधवार को, मैं भारत जाकर चिश्ती को पाकिस्तान लाने की अनुमति के लिए उच्चतम न्यायालय में एक याचिका दायर करूंगा।
     
उन्होंने कहा कि मानवीय आधार पर चिश्ती की रिहाई से भारत और पाकिस्तान के बीच शांति प्रक्रिया को बढ़ावा देने में मदद मिलेगी। हत्या की घटना के समय चिश्ती अपने रिश्तेदारों से मिलने और सूफी संत ख्वाजा मोइनुददीन चिश्ती की दरगाह पर जियारत करने के लिए भारत के दौरे पर था। पिछले साल जनवरी में उसे आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई थी।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
Image Loadingमूडी, पोटिंग, फ्लेमिंग या विटोरी हो सकते हैं टीम इंडिया के नए कोच
भारतीय टीम के पूर्व कोच डंकन फ्लेचर का कार्यकाल खत्म हो चुका है और बीसीसीआई अब एक नए कोच की तलाश में जुटी हुई है। टीम इंडिया का कोच बनना एक बड़ी चुनौती होती है।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड