रविवार, 05 जुलाई, 2015 | 23:01 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    लालू की हैसियत महुआ रैली में उजागर, नीतीश को पक्का मारेंगे लंगड़ीः पासवान एयरइंडिया के यात्री ने की खाने में मक्खी की शिकायत  फेसबुक ने 15 साल बाद मां-बेटे को मिलाया  व्हाट्सएप मैसेज से बवाल कराने वाला बीए का छात्र मोहित गिरफ्तार मुरादाबाद: नदी में पलटी जुगाड़ नाव, आठ डूबे, सर्च ऑपरेशन जारी यूपी के रामपुर में दो भाईयों की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच में जुटी बिहार के हाजीपुर में भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद, छह गिरफ्तार झारखंड: चतरा के टंडवा में हाथियों ने कई घर तोड़े, खा गए धान बिहार में आंखों का अस्पताल बनाने के लिए इंडो-अमेरिकन्स का बड़ा कदम मुजफ्फरनगर के शुक्रताल में हजारों मछलियां मरीं, संत समाज बैठा धरने पर
पाकिस्तान को अपनी सैन्य नीति पुन: परिभाषित करनी होगी: प्रधानमंत्री
इस्लामाबाद, एजेंसी First Published:05-01-13 02:51 PM
Image Loading

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री रजा परवेज अशरफ ने आगाह किया है कि विनाशकारी ताकतें व्यवस्था को पटरी से उतारना चाहती हैं और पाकिस्तान को आतंकवाद से निपटने के लिए अपनी सैन्य नीति को समग्र रूप से पुन: परिभाषित करने की जरूरत है।
  
अशरफ ने कहा कि हमें एक ऐसी नीति पर काम करने की आवश्यकता है जो समग्र रूप से (आतंकवाद से) निपट सके। हमें इस उद्देश्य की प्राप्ति के लिए अपने सैन्य सिद्धांत को पुन: परिभाषित करने और इसका फिर से खाका तैयार करने की आवश्यकता है।
  
प्रधानमंत्री ने कल नेशनल डिफेंस यूनिवर्सिटी में अपने संबोधन में कहा कि विनाशकारी ताकतें अफरातफरी, अनिश्चितता और अस्थिरता का माहौल पैदा करना चाहती हैं। इस तरह की सभी ताकतों से लड़े जाने की जरूरत है, जो व्यवस्था को पटरी से उतारना चाहती हैं।
  
अशरफ की टिप्पणी हाल में तालिबान की ओर से हमलों में बढ़ोतरी और इन खबरों के मददेनजर आई है कि पाकिस्तानी सेना ने अपनी नीति में बड़ा फेरबदल करते हुए देश के आतंकी समूहों और अंदरूनी खतरों को सुरक्षा के लिए सबसे बड़ा खतरा बताया है।
  
प्रधानमंत्री ने कहा कि पाकिस्तान की राष्ट्रीय सुरक्षा को सरकार से इतर तत्वों से खतरा है जो अपना एजेंडा थोपने के लिए देश के प्रतीकों और प्रतिष्ठानों को निशाना बना रहे हैं। यह एक ऐसा दुश्मन है जो अनाम और अज्ञात है।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड