बुधवार, 26 नवम्बर, 2014 | 11:52 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
बीमारों के लिए मेडिकल वीजा हो: मोदीक्लीज एनर्जी पर जोर देना होगा: मोदी2016 में सार्क का साझा सैटेलाइट: मोदीसार्क देशों के बीच वीजा की जगह बिजनेस ट्रेवलर कार्ड हो: मोदीदेशों को जोड़ने पर हमारा विशेष ध्यान: मोदीक्या इस धीमी रफ्तार की वजह से हमारे बीच मतभेद हैं: मोदीलोगों की उम्मीदों के हिसाब से सार्क की रफ्तार काफी धीमी: मोदीसार्क में काम करने की रफ्तार काफी धीमी: मोदीभारत-नेपाल और भारत-भूटान के बीच नए संबंधों की शुरुआत हुई: मोदीसार्क देशों के लोगों में व्यापार काफी कम: मोदीसबको अच्छा पड़ोसी मिलना चाहिए, सबकी चुनौतियां एक जैसी: मोदीसार्क में आपसी निवेश काफी कम: मोदीअच्छा पड़ोसी विकास में सहायक होता है: मोदीमोदी ने कहा, शुक्रिया नेपालहमें अपनी स्थिति को देखना होगा: नरेंद्र मोदीदक्षिण एशिया के देशों में मिलकर काम करने की जरूरत: मोदीमोदी ने सार्क सम्मेलन के लिए नेपाल को बधाई दीसार्क सम्मेलन में नरेंद्र मोदी का भाषण शुरू
भुट्टो जांच को सार्वजनिक करने के लिए पाक सरकार स्वतंत्र: आतंकरोधी अदालत
इस्लामाबाद, एजेंसी First Published:06-12-12 02:14 PMLast Updated:06-12-12 02:26 PM
Image Loading

पाकिस्तान की एक आतंकरोधी अदालत ने व्यवस्था दी है कि बेनजीर भुट्टो की मौत की जांच या उनकी हत्या में शामिल लोगों के खिलाफ न्यायिक जांच के नतीजों को सार्वजनिक करने से पहले सरकार को किसी प्राधिकार से इजाजत लेने की जरूरत नहीं है।

विशेष सरकारी वकील चौधरी जुल्फीकार अली ने न्यायाधीश चौधरी हबीब उर रहमान से इस जांच और मुकदमे की कार्यवाही को सार्वजनिक करने की इजाजत मांगी थी। इस याचिका के जवाब में रावलपिंडी की आतंकरोधी अदालत ने बुधवार को यह फैसला सुनाया।

जज ने कहा कि सरकार जांच और मुकदमे की कार्यवाही के नतीजों को सार्वजनिक कर सकती है। भुट्टो की हत्या के मामले में संलिप्तता के आरोप में पांच लोगों ऐतजाज शेराजी, अब्दुल रशीद तुराबी, शेर जमान, रफाकत हुसैन और हस्नैन गुल को हिरासत में लिया गया। सुरक्षा कारणों के चलते इनपर मुकदमा रावलपिंडी की अदियाला जेल में बंद कमरे में चलाया जा रहा है।

फिलहाल निर्वासन में पाकिस्तान से बाहर रह रहे पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ को भुट्टो को पर्याप्त सुरक्षा उपलब्ध कराने में विफल रहने पर आतंकरोधी अदालत ने घोषित अपराधी मानकर भगोड़ा घोषित कर दिया है। बेनजीर दिसंबर 2007 में रावलपिंडी में एक चुनावी रैली को संबोधित करने के बाद एक आत्मघाती हमले में मारी गई थीं।

गृहमंत्री रहमान मलिक ने इस सप्ताह की शुरुआत में कहा था कि भुट्टो की हत्या के मामले की जांच के नतीजों को सार्वजनिक करने के लिए सरकार अदालत से इजाजत मांगेगी। ऐसा माना जाता है कि सत्ताधारी दल पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी इस जानकारी को भुट्टो की पुण्यतिथि के आयोजनों के दौरान करना चाहती है। इसी के साथ वह अगले साल होने वाले सामान्य चुनावों के लिए अपने अभियान को भी शुरू करना चाहती है।

 
 
 
टिप्पणियाँ