शुक्रवार, 04 सितम्बर, 2015 | 20:01 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
दूरसंचार नियामक ट्राई का कॉल ड्रॉप के लिए उपभोक्ताओं को मुआवजे का प्रस्ताव।RSS की बैठक में बोले मोदी, बड़े बदलाव के लिए काम कर रहे हैं, जल्द ही नतीजे सामने आएंगेपटना में निषाद समुदाय के प्रदर्शन के दौरान शामिल लोगों और पुलिस के बीच हुई झड़प में 25 घायलदिल्ली में लालू-मुलायम की बैठक खत्म, 5 सीटें मिलने से सपा नाराजदिल्ली: पीएम 6 सितंबर को करेंगे बदरपुर से फरीदाबाद तक चलने वाली मेट्रो का शुभारंभ
29 भारतीय-अमेरिकी बने 2013 के लिए आईईईई अध्येता
हयूस्टन, एजेंसी First Published:27-12-2012 05:09:02 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

इंस्टीट्यूट फोर इलेक्ट्रॉनिक एंड इलेक्ट्रिक इंजीनियर्स (आईईईई) द्वारा वर्ष 2013 के लिए आईईईई नवोन्नत अध्येता के तौर पर काम करने के लिए चुने गए कुल 297 लोगों में 29 भारतीय और भारतीय-अमेरिकी शामिल हैं। आईईईई दुनिया का सबसे बड़ा तकनीकी पेशेवर संघ है।

यह नामांकन उन चयनित आईईईई सदस्यों के लिए है, जिनके द्वारा आईईईई के हितों वाले क्षेत्र में हासिल की गयी असाधारण उपलब्धियां, इस प्रतिष्ठित श्रेणी के लिहाज से उपयुक्त हैं।

सम्मानित लोगों में राजस्थान के ओम प्रकाश नारायण कल्ला, आईआईटी-बेंगलूर के जयंत रामास्वामी हरित्सा, आईआईटी दिल्ली के श्रीनिवास एस मूर्ति, पुणे विश्वविद्यालय के प्रदीप के सिन्हा और आईआईटी-हैदराबाद के बयया यज्ञनारायण शामिल हैं।

अन्य लोगों में फ्रांस के राजा चतिला, कनाडा के रामचंद्र अछर और सिंगापुर के ललित कुमार गोयल शामिल हैं। भारतीय अमेरिकी लोगों में नॉर्थ कैरोलिना विश्वविद्यालय के संजय के बरूआ, वाशिंगटन विश्वविद्यालय के कन्ना कृष्णन, स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय के शुभाशीष मित्रा, पेन्न स्टेट यूनिवर्सिटी के सुमन दत्ता और कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय के सुभाष दिग्गवी शामिल हैं।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingपापा द्रविड़ के नक्शेकदम पर चला बेटा, दिखाया बल्ले का जौहर
द वॉल’ के नाम से मशहूर भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान राहुल द्रविड़ के बेटे ने भी अपने पिता के नक्शेकदम पर चलने का संकेत देते हुए स्कूल टीम को अपनी उम्दा बल्लेबाजी की बदौलत जीत दिला दी।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड Others
 
Image Loading

अलार्म से नहीं खुलती संता की नींद
संता बंता से: 20 सालों में, आज पहली बार अलार्म से सुबह-सुबह मेरी नींद खुल गई।
बंता: क्यों, क्या तुम्हें अलार्म सुनाई नहीं देता था?
संता: नहीं आज सुबह मुझे जगाने के लिए मेरी बीवी ने अलार्म घड़ी फेंक कर सिर पर मारी।