शुक्रवार, 30 जनवरी, 2015 | 17:55 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
अमिता को पीजीआई लखनऊ भेजा गया था महिला के खून का नमूना, जांच में स्वाइन फ्लू की पुष्टिबरेली में स्वाइन फ्लू से पहली मौत की पुष्टि, राममूर्ति मेडिकल कालेज में हुई थी 24 जनवरी को सीबीगंज की अमिता उपाध्याय की मौतपाकिस्तान के शिकारपुर में ब्लास्ट, 20 लोगों की मौतयूपी: लखीमपुर खीरी के मैगलंगज में युवक की हत्या, ट्रैक्टर ट्रॉली पर फेंक दिया शव, गला दबाकर हत्या का आरोपबरेली : इंडियन वैटेनरी रिसर्च इंस्टीट्यूट (आईवीआरआई) और सेंट्रल एवियन रिसर्च इंस्टीट्यूट (सीएआरआई) में रेबीज का कहर, आवारा कुत्तों के काटने से कई वैज्ञानिक रेबीज की चपेट में, मारे गए कुत्तों के पोस्टमार्टम में रेबीज की पुष्टि
ब्रिटिश सिख सैनिक की पगड़ी को लेकर विवाद
लंदन, एजेंसी First Published:02-12-12 05:15 PM

ब्रिटिश सेना में ड्यूटी के दौरान पारंपरिक टोपी के स्थान पर पगड़ी पहनने की इजाजत पाने वाले पहले सिख सैनिक को पगड़ी और दाढ़ी को लेकर अपने साथियों के हाथों अपमानित होना पड़ा है।

इस साल स्कॉट गार्ड्स से जुड़े 25 वर्षीय गार्ड्समैन जतिंदर पाल सिंह भुल्लर को सैकड़ों साल की परंपरा को तोड़ते हुए बकिंघम महल के बाहर पगड़ी में रहने की अनुमति दी गयी है। लेकिन सेना के शीर्ष नेतृत्व का यह फैसला भुल्लर के साथी सैनिकों के साथ विवाद का कारण साबित हुआ।

डेली मेल की एक रिपोर्ट के अनुसार, सेना के सिख चैपलिन ने रविवार को अखबार से कहा कि भुल्लर को अपनी पगड़ी पहनने, बाल और दाढ़ी नहीं कटवाने को लेकर ताने सुनने पड़े।

भुल्लर बर्डकेज वाक के वेल्लिंगटन बैरक में तैनात हैं। यह सैन्य अड्डा स्कॉट गार्डस एफ कंपन के सैनिक इस्तेमाल करते हैं जिन पर सार्वजनिक डयूटी और महरानी को सुरक्षा प्रदान करने की जिम्मेदारी है।

 
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड