शनिवार, 04 जुलाई, 2015 | 05:14 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    फिल्म देखने से पहले पढ़ें 'गुड्डू रंगीला' का रिव्यू फिल्म रिव्यू: टर्मिनेटर जेनेसिस पूर्व रॉ प्रमुख के खुलासे के बाद सरकार पर हमलावर हुई कांग्रेस, PM से की माफी की मांग झारखंड: मेदिनीनगर के हुसैनाबाद में ओझा-गुणी की हत्या हजारीबाग के पदमा में दो गुटों में भिड़ंत, आधा दर्जन घायल गुमला में बाइक के साथ नदी में गिरा सरकारी कर्मी, मौत हेमा मालिनी के ड्राइवर को कुछ ही घंटों में मिली जमानत, बच्ची की मौत से हेमा दुखी झारखंड के चाईबासा में रिश्वत लेते दारोगा रंगे हाथ गिरफ्तार झारखंड: हजारीबाग में पिता ने अबोध बेटी को पटक कर मार डाला जमशेदपुर में स्कूल वाहन चालक हड़ताल पर, अभिभावक परेशान
ब्रिटिश सिख सैनिक की पगड़ी को लेकर विवाद
लंदन, एजेंसी First Published:02-12-12 05:15 PM

ब्रिटिश सेना में ड्यूटी के दौरान पारंपरिक टोपी के स्थान पर पगड़ी पहनने की इजाजत पाने वाले पहले सिख सैनिक को पगड़ी और दाढ़ी को लेकर अपने साथियों के हाथों अपमानित होना पड़ा है।

इस साल स्कॉट गार्ड्स से जुड़े 25 वर्षीय गार्ड्समैन जतिंदर पाल सिंह भुल्लर को सैकड़ों साल की परंपरा को तोड़ते हुए बकिंघम महल के बाहर पगड़ी में रहने की अनुमति दी गयी है। लेकिन सेना के शीर्ष नेतृत्व का यह फैसला भुल्लर के साथी सैनिकों के साथ विवाद का कारण साबित हुआ।

डेली मेल की एक रिपोर्ट के अनुसार, सेना के सिख चैपलिन ने रविवार को अखबार से कहा कि भुल्लर को अपनी पगड़ी पहनने, बाल और दाढ़ी नहीं कटवाने को लेकर ताने सुनने पड़े।

भुल्लर बर्डकेज वाक के वेल्लिंगटन बैरक में तैनात हैं। यह सैन्य अड्डा स्कॉट गार्डस एफ कंपन के सैनिक इस्तेमाल करते हैं जिन पर सार्वजनिक डयूटी और महरानी को सुरक्षा प्रदान करने की जिम्मेदारी है।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड