सोमवार, 22 दिसम्बर, 2014 | 17:30 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
दो फुट बर्फ और दो डिग्री तापमान के बीच मुख्‍यमंत्री केदारनाथ पहुंचेलखवी पर पाक सरकार का दोहरा चेहरा बेनकाब, सरकारी वकील ने किया खुलासा, बेल अर्जी दाखिल करने में देरी करने का पाक सरकार बना रही दबावछपरा के इसुआपुर थाने के दारोगा की गोली मारकर हत्या
भारतीय प्रवासी ब्रिटेन में सबसे बड़ा जातीय समूह
लंदन, एजेंसी First Published:11-12-12 10:40 PM
Image Loading

ब्रिटेन में भारतीय प्रवासी सबसे बड़ा जातीय समूह है तो हिंदुत्व यहां तीसरा सबसे लोकप्रिय धर्म है। इंग्लैंड और वेल्स की प्रवासी लोगों की संख्या से जुड़ी 2011 की गणना के अनुसार पिछले एक दशक के दौरान इन दोनों स्थानों पर प्रवासियों की जनसंख्या में 30 लाख से अधिक का इजाफा हुआ और यह 75 लाख को पार कर गई।

इस आंकड़े में कहा गया है कि सबसे ज्यादा प्रवासी भारत, पोलैंड और पाकिस्तान के हैं। लंदन में रहने वाले सिर्फ 37 लाख को लोगों को श्वेत ब्रिटिश की नस्ल का बताया गया है, जबकि यह संख्या 2001 में 43 लाख थी। फिलहाल ब्रिटिश मूल के लोगों की आबादी लंदन में 44.9 फीसदी है।

ऐसा माना जा रहा है कि पहली बार ब्रिटेन के किसी क्षेत्र में ब्रिटिश श्वेत लोग अल्पसंख्‍यक हो गए हैं। ब्रिटेन में यहां के श्वेत नस्ल की लोगों की आबादी में 80 फीसदी की गिरावट आई है। ब्रिटेन में 3.32 करोड़ लोगों ने कहा कि वे ईसाई हैं, जबकि 2001 में यह आंकड़ा 3.73 करोड़ था।

यहां को इस्लाम को मानने वालों की संख्या कुल आबादी का 4.8 फीसदी, जबकि हिंदुत्व में आस्था रखने वालों का आंकड़ा 1.5 फीसदी है।

 
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड