शनिवार, 01 नवम्बर, 2014 | 18:04 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    मथुरा में भाजपा युवा मोर्चा का पुलिस पर पथराव, दर्जनों जख्मी मुख्यमंत्री कार्यालय में बदलाव करना चाहते हैं फड़नवीस  चीन ने पूरा किया चांद से वापसी का पहला मिशन  आज चार राज्य मना रहे हैं स्थापना दिवस  जम्मू-कश्मीर में बदले जा सकते हैं मतदान केंद्र 'एक भारत, श्रेष्ठ भारत' का वीडियो यूट्यूब पर हिट दिग्विजय सिंह की सलाह, कांग्रेस की कमान अपने हाथ में लें राहुल गांधी 'दिल्ली को फिर केंद्र शासित बनाने की फिराक में भाजपा' जनता सब देख रही है, बीजेपी हल्के में न लेः उद्धव ठाकरे वर्जिन का अंतरिक्ष यान दुर्घटनाग्रस्त, पायलट की मौत
दिल को दुरुस्त रखने के लिए पीजिए काली चाय
सिडनी, एजेंसी First Published:09-01-13 07:11 PM
Image Loading

एक नए शोध के मुताबिक काली चाय में प्रचुरता से पाया जाने वाला एक प्रकार का फलेवनॉयड, क्वर्सटीन, धमनियों को ऑक्सीकरण से होने वाले नुकसान से बचाता है और हृदयवाहिका से सम्बंधित रोगों की सम्भावना घटाता है।

फ्लेवनॉयड पौधों में पाए जाने वाले साधारण वर्णक यौगिक होता है, जो एंटीऑक्सीडेंट के तौर पर काम करता है, विटामिन सी के असर को बढ़ाता है और रक्तवाहिकाओं के आसपास संयोजी ऊतकों की रक्षा करता है।

युनिवर्सिटी ऑफ वेस्टर्न आस्ट्रेलिया के स्कूल ऑफ मेडिसिन के रिसर्च फेलो नेतेली वार्ड और फार्मेकोलॉजी के प्रोफेसोरियल फेला, केविन क्रॉफ्ट ने चूहों पर किए गए एक प्रयोग के आधार पर कहा, ''हमारे निष्कर्ष बताते हैं कि क्वर्सटीन, वाहिकाओं को ऑक्सीडेंट से होने वाले नुकसान से बचाने में सक्षम है।''

शोध पत्रिका बायोकेमिकल फॉर्मेकोलॉजी के मुताबिक पर्यवेक्षकों का कहना है कि इस बात के प्रमाण हैं कि खाद्य फ्लेवनॉयड्स उच्च रक्तचाप को कम कर सकता है और अथेरोस्क्लेरोसिस के विकास को कम कर सकता है।

विश्वविद्यालय के बयान के मुताबिक वार्ड और क्रॉफ्ट ने कहा, ''भविष्य में हृदय रक्तवाहिकाओं पर फ्लेवनॉयड के असर से सम्बंधित अध्ययनों में अलग-अलग तरह के फ्लेवनॉयड और फ्लेवनॉयड के खाद्य स्रेतों के उपयोग पर विचार किया जाना चाहिए।''

 
 
 
टिप्पणियाँ