शुक्रवार, 28 अगस्त, 2015 | 22:38 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
दिल्ली में कई जगह लगा जाम, डीएनडी पर लगी है वाहनों की काफी लंबी कतार।भूमि अधिग्रहण कानून संबंधी अध्‍यादेश फिर से नहीं लाएगी सरकार।मुम्बई पुलिस आयुक्त राकेश मारिया की उपस्थिति में इंद्राणी मुखर्जी, संजीव खन्ना, ड्राइवर श्याम राय और मिखाइल बोरा से संयुक्त रूप से पूछताछ की गई।उत्तर प्रदेश की दलित जमीन पर सियासत की नींव मजबूत करने में जुटी भाजपा।
ओबामा ने किया श्रीनिवासन को पुरस्कार के लिए नामित
वॉशिंगटन, एजेंसी First Published:22-12-2012 10:38:23 AMLast Updated:22-12-2012 10:53:51 AM
Image Loading

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने आईबीएम के एक जाने माने खोजकर्ता और भारतीय मूल के अमेरिकी रंगास्वामी श्रीनिवासन को प्रतिष्ठित नेशनल मेडल ऑफ टेक्नोलॉजी फॉर इनोवेशन के लिए नामित किया है।
  
श्रीनिवासन के साथ ओबामा ने 12 अन्य शोधकर्ताओं को इस नेशनल मेडल ऑफ साइंस के लिए और 10 असाधारण खोजकर्ताओं को नेशनल मेडल ऑफ टेक्नोलॉजी एंड इनोवेशन के लिए नामित किया है। ये पुरस्कार अमेरिकी सरकार की ओर से वैज्ञानिकों, इंजीनियरों और खोजकर्ताओं को दिए जाने वाले सर्वोच्च पुरस्कार हैं।
  
इन विजेताओं को वर्ष 2013 की शुरूआत में व्हाइट हाउस में आयोजित एक समारोह के दौरान पुरस्कार प्रदान किया जाएगा।
  
वर्ष 1981 में श्रीनिवासन ने खोज की थी कि एक पराबैंगनी एक्साइमर लेजर एक जीवित उतक को बिना किसी उष्मीय नुकसान के बारीकी से उकेर सकता है। इस सिद्धांत को उन्होंने एब्लेटिव फोटो डीकंपोजीशन का नाम दिया था।
  
ओबामा ने कहा कि इन प्रेरक अमेरिकी खोजकर्ताओं को सम्मानित करते हुए मैं गर्व महसूस कर रहा हूं। अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि इन लोगों ने इस देश को महान बनाने के लिए बहुत समझदारी और कल्पनाशीलता का प्रदर्शन किया है। ये हमें याद दिलाते हैं कि रचनात्मक गुणों को अगर एक बेहतर माहौल मिले तो वे कितना अच्छा प्रभाव पैदा कर सकते हैं।
  
नेशनल मेडल ऑफ टेक्नोलॉजी एंड इनोवेशन की स्थापना वर्ष 1980 में की गई थी। व्हाइट हाउस के लिए इस पुरस्कार की व्यवस्था अमेरिका के वाणिज्य मंत्रालय के पेटेंट और ट्रेडमार्क दफ्तर के हाथ में है।
  
यह पुरस्कार उन लोगों को दिया जाता है जिन्होंने अमेरिका की प्रतिस्पर्धात्मक क्षमता बढ़ाने, देश का तकनीकी कार्यबल मजबूत करने और जीवन की गुणवत्ता सुधारने में अपना अभूतपूर्व योगदान दिया हो।
  
नेशनल मेडल ऑफ साइंस की स्थापना वर्ष 1959 में की गई थी और व्हाईट हाउस के लिए इसकी व्यवस्था का जिम्मा नेशनल साइंस फाउंडेशन के हाथ में है। वर्ष में एक बार दिए जाने वाले ये पुरस्कार विज्ञान और इंजीनियरिंग के क्षेत्र में अदभुत प्रदर्शन करने वाले लोगों को एक खास पहचान देते हैं।
  
अमेरिका के इंवेंटर हॉल ऑफ फेम में वर्ष 2002 से शामिल श्रीनिवासन आईबीएम के टी जे वॉटसन अनुसंधान केंद्र में 30 साल तक काम कर चुके हैं। अपने नाम 21 अमेरिकी पेटेंट दर्ज कराने वाले श्रीनिवासन मद्रास विश्वविद्यालय से स्नातक और परास्नातक की डिग्री ले चुके हैं।
  
भौतिक रसायन में उन्होंने वर्ष 1956 में सदर्न कैलीफोर्निया विश्वविद्यालय से डॉक्टरेट किया था। हॉल ऑफ फेम की वेबसाइट पर उनके बारे में दी गयी जानकारी के अनुसार, श्रीनिवासन और उनके साथी खोजकर्ताओं ने एक्साइमर लेजर और एक पारंपरिक हरित लेजर की मदद से कार्बनिक पदार्थ को उकेरने के लिए कई परीक्षण किए थे। उन्होंने पाया था कि हरित लेजर से किए गए कटाव उष्मा के प्रभाव के चलते खराब हो गए थे जबकि एक्साइमर लेजर ने काफी साफ-सुथरे कटाव बनाए थे।
  
वर्ष 1983 में श्रीनिवासन ने आंखों के एक सजर्न के साथ मिलकर एपीडी का विकास किया था जो आंख के सफेद भाग में महीन कटाव लाने के लिए प्रयोग होता है।
  
इसके परिणामस्वरूप आज दष्टिदोष को सही करने के लिए लेजिक सजर्री मौजूद है। लेजिक सजर्री के आने के बाद से लाखों लोगों ने इस क्रियाविधि का फायदा लिया है जो लेंस पर आपकी निर्भरता को बहुत हद तक कम कर देता है।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingबारिश ने धोया पहले दिन का खेल, भारत 50/2
भारत और श्रीलंका के बीच तीसरे और आखिरी क्रिकेट टेस्ट के पहले दिन शुक्रवार को बारिश के कारण दो सत्र से अधिक का खेल नहीं हो सका जबकि भारत ने पहली पारी में दो विकेट पर 50 रन बनाए।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

जब जय की हुई जमकर पिटाई...
वीरू (जय से): कल तुझे मेरे मोहल्ले के दस लड़कों ने बहुत बुरी तरह पीटा। फिर तूने क्या किया?
जय: मैंने उन सभी से कहा कि कि अगर हिम्मत है, तो अकेले-अकेले आओ।
वीरू: फिर क्या हुआ?
जय: होना क्या था, उसके बाद उन सबने एक-एक करके फिर से मुझे पीटा।