बुधवार, 27 मई, 2015 | 09:17 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    रिजिजू बोले, मैं खाता हूं बीफ, मुझे कोई रोक सकता है क्या? जारी है जश्न-ए-मोदी सरकार, आज सूरत में शाह की रैली प्रियंका गांधी आज रायबरेली दौरे पर, सोनिया कल आएंगी  लू और गर्मी से दो दिनों तक नहीं मिलेगी राहत, 1100 मरे केंद्र को केजरीवाल की चुनौती, आदेश खारिज करने के लिए लाए प्रस्ताव दिल्ली विधानसभा: विशेष सत्र में हंगामा, बीजेपी विधायक को बाहर निकाला  यूपी: गर्मी का कहर जारी, राहत के आसार नहीं इस रेस्टोरेंट में आने वालों को बनना पड़ता है कैदी प्रतापगढ़ में रोडवेज के कैशियर की हत्या कर साढ़े सात लाख की लूट  सलमान को दुबई जाने के लिए कोर्ट से मिली अनुमति
एशिया में कोई नया शीत युद्ध नहीं: हिलेरी
वाशिंगटन, एजेंसी First Published:11-04-12 02:05 PM
Image Loading

अमेरिकी विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन ने कहा है कि उभरते चीन के साथ अमेरिका किसी प्रकार का संघर्ष नहीं कर रहा है तथा उनका देश एशिया में किसी नए शीत युद्ध के लिए नहीं बल्कि नई सुरक्षा चुनौतियों के लिए तैयारी कर रहा है।
   
एक ताकत के रूप में उभरते चीन को रोकने की अमेरिका की किसी प्रकार की इच्छा से इनकार करते हुए हिलेरी ने कहा कि जिस प्रकार अमेरिका अपने पुराने दोस्तों को नहीं खो रहा है, उसी प्रकार वह नए दुश्मन भी नहीं बना रहा है।
   
विदेश मंत्री ने कहा कि आज का चीन सोवियत संघ नहीं है। हम एशिया में किसी नए शीत युद्ध के मुहाने पर नहीं हैं। उन्होंने कहा कि आज की भू राजनीति दबंगई को बर्दाश्त नहीं कर सकती।

एक समृद्ध होता चीन अमेरिका के लिए अच्छा है और एक समृद्ध अमेरिका चीन के लिए अच्छा है, लेकिन यह तभी अच्छा है जब हम क्षेत्रीय और वैश्विक भलाई की राह पर आगे बढ़ते हुए तरक्की करें।
   
हिलेरी ने कहा कि मैं इससे भी आगे जाकर एक बात कहना चाहूंगी। यदि हम प्रभावी अमेरिकी-चीन भागीदारी के निर्माण में सफल हो जाते हैं तभी हम शांतिपूर्ण और समृद्ध एशिया प्रशांत के निर्माण में कामयाब होंगे।
   
हिलेरी ने कहा कि एशिया में कुछ उभरती ताकतें चुनिंदा दृष्टिकोण के साथ काम कर रही हैं जो दीर्घकाल में उनके लिए अच्छा नहीं होगा।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
Image Loadingधौनी से कप्तानी के गुर सीखे : होल्डर
वेस्टइंडीज की वनडे टीम के युवा कप्तान जैसन होल्डर को लगता है कि चेन्नई सुपरकिंग्स के साथ बिताये गये दिनों में उन्हें किसी और से नहीं बल्कि भारत के सीमित ओवरों की टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धौनी से कप्तानी के गुर सीखने को मिले थे।