रविवार, 26 अक्टूबर, 2014 | 12:29 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    एयर इंडिंया के कई पायलट खत्म लाइसेंस पर उड़ा रहे हैं विमान राजनाथ ने युवाओं से शांति और सौहार्द का संदेश फैलाने को कहा  शीतकालीन सत्र से पहले नए योजना निकाय का गठन कर सकती है सरकार  आज मोदी की चाय पार्टी में शामिल हो सकते हैं शिवसेना सांसद शिक्षिका ने की थी गोलीबारी रोकने की कोशिश नांदेड-मनमाड पैसेजर ट्रेन के डिब्बे में आग,यात्री सुरक्षित दिल्ली के त्रिलोकपुरी में हिंसा के बाद बाजार बंद, लगाया गया कर्फ्यू मनोहर लाल खट्टर ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली, मोदी भी हुये शामिल राजनाथ सोमवार को मुंबई में कर सकते हैं शिवसेना से वार्ता नरेंद्र मोदी ने सफाई और स्वच्छता पर दिया जोर
भारत को अपने लिए खतरा मानता है पाकिस्तान: अमेरिका
वाशिंगटन, एजेंसी First Published:03-04-12 02:52 PM
Image Loading

अमेरिकी रक्षा मंत्री लियोन पेनेटा का मानना है कि पाकिस्तान के वैश्विक दृष्टिकोण पर यह धारणा छाई हुई है कि उसे भारत से खतरा है, जिसके कारण इस्लामाबाद से आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई के संबंध में बहुत मिश्रित संदेश प्राप्त होते हैं।

पेनेटा ने सीबीसी टेलीविजन के साथ एक विशेष बातचीत में कहा है कि कुछ मामलों में हमारे सामने सामूहिक चिंता और सामूहिक खतरे हैं। आतंकवाद जितना पाकिस्तान के लिए, वहां के लोगों के लिए खतरा है, उतना ही हमारे लिए और अफगानिस्तान व वहां के लोगों के लिए खतरा है।

पेनेटा ने कहा कि लेकिन समस्या यह है कि वे दुनिया के उस हिस्से में अपनी स्थिति खतरे में मानते हैं, भारत से खतरा, अन्य देशों से खतरा महसूस करते हैं। चिंता यह है कि वे भविष्य में कौन सी स्थिति हासिल करना चाहते हैं।

अमेरिका-पाकिस्तान के रिश्ते में उतार-चढ़ाव का जिक्र करते हुए पेनेटा ने कहा कि इसके परिणामस्वरूप हमें कभी-कभी पाकिस्तान से बहुत मिश्रित संदेश प्राप्त होते हैं कि आखिर वे वास्तव में कहां और क्या बनने जा रहे हैं।

लेकिन पेनेटा ने दोनों देशों के रिश्ते को एक बहुत महत्वपूर्ण रिश्ता भी बताया। उन्होंने कहा कि स्पष्ट कहूं तो अफगानिस्तान में वास्तविक शांति तबतक हासिल नहीं की जा सकती, जबतक कि हम यह नहीं सुनिश्चित करा लेते कि हमने आतंकवाद के संदर्भ में पाकिस्तान में शांति कायम कर ली है।

पेनेटा ने यह भी कहा कि अमेरिका ने ओसामा बिन लादेन के खिलाफ दो मई को उसके पाकिस्तान स्थित ठिकाने पर की गई कार्रवाई के बारे में इस्लामाबाद को कार्रवाई से पहले कोई जानकारी नहीं दी थी, क्योंकि जानकारी के लीक होने की आशंका थी।

 
 
 
 
टिप्पणियाँ