बुधवार, 01 जुलाई, 2015 | 18:19 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
हमें समय के इस बदलाव का समझना होगा नहीं तो हम पीछे रह जाएंगे: पीएम मोदीभारत के भविष्य को बदलने का खाका खींचा गया: पीएम मोदीडिजीटल इंडिया से देश का सपना सच होगा: पीएम मोदीआज बच्चा भी चश्मे की जगह मोबाइल छीनता है, बच्चे भी डिजीटल ताकत को समझ रहे हैं: पीएम मोदीपीएम मोदी ने कहा, आज साढे चार लाख करोड रुपये का निवेश और करीब 18 लाख नौकरियों का ऐलान हुआलखीमपुर में बाढ़ के पानी में डूबने से छह बच्‍चों की मौत, बुखारीटोला में खेत में भरे पानी में डूबे चार बच्‍च्‍ो, नरेन्‍द्र नगर में बाढ़ से उफनाए नाले में दो बच्‍चे डूबे250 हजार करोड निवेश करेंगे, पांच लाख से ज्यादा लोगों को मिलेगी नौकरी: मुकेश अंबानीमुकेश अंबानी ने कहा, पीएम की सोच हमारी प्रेरणा, लोगों की जिंदगी बदलेगीडिजीटल इंडिया वीक की शुरूआत, कार्यक्रम में मौजूद हैं कई बडे उद्योगपति
अमेरिकी गन लॉबी ने स्कूल गोलीबारी पर तोड़ी चुप्पी
वाशिंगटन, एजेंसी First Published:19-12-12 12:34 PM
Image Loading

अमेरिका में कनेक्टिकट प्रांत के न्यूटाउन में एक स्कूल में पिछले सप्ताह गोलीबारी में 20 बच्चों सहित 26 लोगों के मारे जाने के बाद अमेरिका की शक्तिशाली गन लॉबी ने अपनी चुप्पी तोड़ते हुए वादा किया कि ऐसी घटनाएं भविष्य में न हों, इसके लिए 'सार्थक कदम' उठाए जाएंगे।

न्यूटाउन के सैंडी हुक एलीमेंट्री स्कूल में गोलीबारी के पांच दिन बाद अमेरिका के सबसे बड़े बंदूक अधिकार समूह ने वाशिंगटन डीसी में मंगलवार को एक संवाददाता सम्मेलन में यह घोषणा की।

एक बयान में कहा गया है कि अमेरिका में 40 लाख अभिभावक तथा बच्चों के संगठन नेशनल रायफल एसोसिएशन (एनआरए) ने न्यूटाउन में भयावह हत्याकांड पर हैरानी और दुख जताया।

बयान में यह भी कहा गया है कि एनआरए भविष्य में ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए सार्थक योगदान देने के लिए तैयार है।

इस बीच, अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने सोमवार को उप राष्ट्रपति जो बिडेन तथा तीन कैबिनेट सचिवों से गोलीबारी पर चर्चा की। लेकिन प्रेस सचिव जे कार्ने ने संवाददाताओं से कहा कि उनके पास घोषणा के लिए कोई विशेष एजेंडा नहीं है।

बंदूक नियंत्रण कानून के मुख्य निर्माताओं में से एक डेमोक्रेटिक सीनेटर फींस्टीन ने कहा कि वह पिछले एक साल से एक नए विधेयक पर काम कर रही हैं और इसे अगले साल सीनेट सत्र के पहले दिन पेश करेंगी। इस कानून की वैधता अवधि वर्ष 2004 में समाप्त हो चुकी है।

ओबामा ने घातक हथियारों पर प्रतिबंध लगाने का समर्थन किया है, लेकिन इस दिशा में उन्होंने कोई राजनीतिक प्रयास नहीं किए हैं। फींस्टीन को भरोसा है कि इसमें परिवर्तन होगा।

 
 
 
अन्य खबरें
 
 
 
 
 
 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड