बुधवार, 27 मई, 2015 | 07:09 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    दिल्ली विधानसभा: विशेष सत्र में हंगामा, बीजेपी विधायक को बाहर निकाला  यूपी: गर्मी का कहर जारी, राहत के आसार नहीं इस रेस्टोरेंट में आने वालों को बनना पड़ता है कैदी प्रतापगढ़ में रोडवेज के कैशियर की हत्या कर साढ़े सात लाख की लूट  सलमान को दुबई जाने के लिए कोर्ट से मिली अनुमति वसीम रिजवी शिया वक्फ बोर्ड के फिर चेयरमैन साहित्यिक चोरी के आरोप में 'पीके' के निर्माताओं को नोटिस 9 अधिकारियों के तबादले के बाद एलजी से मिले केजरीवाल  कांग्रेस के दस साल पर भारी भाजपा का एक साल: स्मृति दुनिया कर रही हरमन की तारीफ, किसी ने भेजा कार्ड तो किसी ने फर्नीचर
अस्पताल में हिलेरी क्लिंटन, सिर में खून का थक्का
वॉशिंगटन, एजेंसी First Published:01-01-13 09:23 AM
Image Loading

अमेरिकी विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन को उनके सिर में बना खून का थक्का घुलाने के लिए खून पतला करने की दवाएं दी जा रही हैं। डॉक्टरों को पूरा भरोसा है कि हिलेरी पूरी तरह ठीक हो जाएंगी।
   
इस माह के शुरू में हिलेरी को पेट में संक्रमण की शिकायत हुई थी। उसी दौरान गिरने से सर पर चोट लगी और डॉक्टरों ने उनके सिर में खून का एक थक्का पाया। इसके बाद हिलेरी को रविवार को न्यूयार्क के एक अस्पताल में भर्ती किया गया।
   
माउंट कायस्को मेडिकल ग्रुप की डॉ लीजा बारडैक और जॉर्ज वॉशिंगटन विश्वविद्यालाय के डॉ जीजी एल बायौमी ने एक बयान में कहा रविवार को एमआरआई के बाद नियमित जांच के दौरान स्कैन करने पर पता चला कि उनके सिर में दाहिनी ओर खून का एक थक्का बना हुआ है।
   
हिलेरी को न्यूयार्क के प्रेस्बाइटेरियन अस्पताल में भर्ती किए जाने के एक दिन बाद उनका इलाज कर रहे डॉक्टरों ने कहा यह थक्का उस शिरा में है जो मस्तिष्क और दाहिने कान के ठीक पीछे खोपड़ी के बीच में है।
   
एक बयान में डॉक्टरों ने कहा यह किसी आघात या तंत्रिका संबंधी समस्या का नतीजा नहीं है। इस थक्के को घुलाने के लिए इलाज शुरू कर दिया गया है और खून पतला करने की दवा दी जा रही है।
   
उन्होंने कहा इलाज का असर हो रहा है और हमें पूरा विश्वास है कि वह जल्द ही पूरी तरह ठीक हो जाएंगी।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
Image Loadingधौनी से कप्तानी के गुर सीखे : होल्डर
वेस्टइंडीज की वनडे टीम के युवा कप्तान जैसन होल्डर को लगता है कि चेन्नई सुपरकिंग्स के साथ बिताये गये दिनों में उन्हें किसी और से नहीं बल्कि भारत के सीमित ओवरों की टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धौनी से कप्तानी के गुर सीखने को मिले थे।