गुरुवार, 28 मई, 2015 | 21:37 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    मोदी ने मनमोहन से ली थी एक घंटे इकॉनोमी पर क्लासः राहुल  लोकलुभावन रास्ते की बजाय अधिक कठिन मार्ग चुना :मोदी CBSE 10th रिजल्ट: 94,447 छात्रों को मिला 10 सीजीपीए सोनिया की मौजूदगी में हुई बैठक, पास हुआ मोदी के खिलाफ निंदा प्रस्ताव जेट एयरवेज की टिकटों पर 25 प्रतिशत छूट की पेशकश रायबरेली पहुंची सोनिया गांधी व्यापम घोटाला: अब तक जांच से जुड़े 40 लोगों की मौत त्रिपुरा सरकार ने राज्य में 18 सालों से लगा अफस्पा हटाया गुर्जर आंदोलन: बैंसला बोले, चाहे कुछ हो जाए बिना आरक्षण लिए नहीं लौटेंगे कुछ इस तरह हुई फीफा के 14 अधिकारियों की गिरफ्तारी
परमाणु हथियारों पर अब भी जमी हैं आतंकवादियों की निगाहें: ओबामा
वॉशिंगटन, एजेंसी First Published:04-12-12 12:21 PMLast Updated:04-12-12 12:26 PM
Image Loading

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने परमाणु हथियारों की सुरक्षा पर जोर देते हुए कहा है कि आतंकवादियों की निगाहें घातक हथियारों पर जमी हुई हैं और यह दुनिया के लिए बड़ा खतरा बना हुआ है।

ओबामा ने कहा कि आपको कई सफलताएं मिली हैं। हजारों मिसाइलों को नष्ट किया गया और कई हथियारों को हटाया गया। हम अब करीब पहुंच चुके हैं। उन्होंने नन-लुगर कोऑपरेटिव थ्रेट रिडक्सन नामक संगोष्ठी में कहा कि अभी बहुत सारे परमाणु, रसायनिक, जैविक हथियार हैं, जो बिना पर्याप्त सुरक्षा के रखे गए हैं। अब भी कई आतंकवादी और आपराधिक संगठन इन हथियारों को अपने हाथ में लेने का प्रयास कर रहे हैं।

अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि अगर वे इन हथियारों को हासिल कर लेंगे, तो इनका इस्तेमाल करेंगे। इनमें हजारों निर्दोष लोग मारे जा सकते हैं और संभव है कि इससे वैश्विक संकट खड़ा हो जाए। ऐसे में मेरा यह मानना है कि परमाणु आतंकवाद वैश्विक सुरक्षा के लिए बड़ा खतरा बना हुआ है।

ओबामा ने कहा कि वैश्विक सुरक्षा के लिए खतरा बनने के कारण हम परमाणु आतंकवाद को रोकने के लिए काम कर रहे हैं। जब तक मैं अमेरिका का राष्ट्रपति हूं, तब तक मेरी सुरक्षा प्राथमिकताओं में यह सबसे उपर रहेगा। उन्होंने कहा कि इसको लेकर संगठनों और सरकार के स्तर पर प्रयास जारी रखेंगे। हमें अपने लोगों के लिए और नई तकनीक में हमे निवेश करते रहना है। हमें रूस सहित सभी के साथ साझेदारी जारी रखनी होगी।

रूस के संदर्भ में अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि हमें रूस के साथ समान साझेदार के रूप में काम करना है। दोनों देशों की सुरक्षा महत्वपूर्ण है।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
Image Loadingमूडी, पोटिंग, फ्लेमिंग या विटोरी हो सकते हैं टीम इंडिया के नए कोच
भारतीय टीम के पूर्व कोच डंकन फ्लेचर का कार्यकाल खत्म हो चुका है और बीसीसीआई अब एक नए कोच की तलाश में जुटी हुई है। टीम इंडिया का कोच बनना एक बड़ी चुनौती होती है।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड