शनिवार, 05 सितम्बर, 2015 | 09:12 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
अमेरिका में गोलीबारी पर मून ने जताया शोक
संयुक्त राष्ट्र, एजेंसी First Published:15-12-2012 02:00:30 PMLast Updated:15-12-2012 02:08:25 PM
Image Loading

संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की-मून ने अमेरिका में एक प्राथमिक स्कूल में शुक्रवार को हुई गोलीबारी के प्रति गहरा शोक जताया है। इस घटना में 20 बच्चों सहित 28 लोग मारे गए।

संयुक्त राष्ट्र प्रवक्ता मार्टिन नेसिर्की ने बताया कि मून ने कनेक्टिकट के गवर्नर डैनेल मैलॉय को लिखे एक पत्र में सैंडी हुक एलिमेंट्री स्कूल की घटना को स्तब्ध कर देने वाली घटना बताया। सिन्हुआ के मुताबिक प्रवक्ता ने कहा कि महासचिव ने बच्चों को निशाना बनाने की इस घटना को जघन्य और कल्पना से परे बताया है।

उन्होंने पीड़ितों के परिवारों और इस भयावह अपराध से आहत लोगों के प्रति संवेदनाएं व्यक्त कीं और उनके लिए प्रार्थनाएं कीं। पुलिस ने शुक्रवार को कनेक्टिकट में बताया कि 18 बच्चों की स्कूल में घटनास्थल पर ही मौत हो गई थी। बाद में दो और बच्चों की अस्पताल में मौत हो गई जबकि आठ अन्य भी मारे गए।

रिपोर्ट्स के मुताबिक बंदूकधारी ने स्कूल में काम करने वाली अपनी मां को भी गोली मारी। पुलिस ने बताया कि बंदूकधारी व उसका एक साथी भी मारे गए। अमेरिका के इतिहास में गोलीबारी की यह दूसरी सबसे भयावह घटना है। इससे पहले अप्रैल, 2007 में वर्जीनिया टैक मैसाक्री में हुई गोलीबारी में 33 लोग मारे गए थे।


यूरोपीय संघ ने भी जताया शोक
यूरोपीय संघ के नेताओं ने शुक्रवार को अमेरिका के कनेक्टिकट के स्कूल में हुई गोलीबारी की घटना पर गहरा शोक व्यक्त किया है। समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक यूरोपीय संघ के अध्यक्ष जोस मैनुएल बरोसो ने कहा कि गोलीबारी में लोगों के मारे जाने की खबर सुनकर मुझे बेहद दुख और आघात पहुंचा है। उम्मीदों से भरे बच्चों को मौत की नींद की सुला दिया गया है।

उन्होंने कहा कि यूरोपीय संघ और अपने तरफ से इस त्रासदापूर्ण घटना पर मृतकों के परिजनों के प्रति मैं गहरी सहानुभूति व्यक्त करता हूं। यूरोपीय संघ की विदेशी मामलों की प्रमुख कैथरीन एश्टन ने कहा कि कनेक्टिकट के एक स्कूल में हुई इस त्रासदापूर्ण गोलीबारी पर मैं शोक व्यक्त करती हूं। एश्टन ने कहा कि मैं मृतकों के परिवारवालों और अमेरिकीयों के प्रति अपनी संवेदनाएं व्यक्त करती हूं।

 

 

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड Others
 
Image Loading

अलार्म से नहीं खुलती संता की नींद
संता बंता से: 20 सालों में, आज पहली बार अलार्म से सुबह-सुबह मेरी नींद खुल गई।
बंता: क्यों, क्या तुम्हें अलार्म सुनाई नहीं देता था?
संता: नहीं आज सुबह मुझे जगाने के लिए मेरी बीवी ने अलार्म घड़ी फेंक कर सिर पर मारी।