रविवार, 26 अक्टूबर, 2014 | 03:37 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    राजनाथ सोमवार को मुंबई में कर सकते हैं शिवसेना से वार्ता नरेंद्र मोदी ने सफाई और स्वच्छता पर दिया जोर मुंबई में मोदी से उद्धव के मिलने का कार्यक्रम नहीं था: शिवसेना  कांग्रेस ने विवादित लेख पर भाजपा की आलोचना की केन्द्र ने 80 हजार करोड़ की रक्षा परियोजनाओं को दी मंजूरी  कांग्रेस नेता शशि थरूर शामिल हुए स्वच्छता अभियान में हेलमेट के बगैर स्कूटर चला कर विवाद में आए गडकरी  नस्ली घटनाओं पर राज्यों को सलाह देगा गृह मंत्रालय: रिजिजू अश्विका कपूर को फिल्मों के लिए ग्रीन ऑस्कर अवार्ड जम्मू-कश्मीर और झारखंड में पांच चरणों में मतदान की घोषणा
काबुल बैंक धोखाधड़ी में दो भारतीय शामिल
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:29-11-12 04:25 PM
Image Loading

अधिकारियों की धोखाधड़ी तथा गबन के कारण अफगानिस्तान के काबुल बैंक के डूबने की घटना में कम से कम दो भारतीय नागरिकों के शामिल होने का अंदेशा है।

इस धोखाधड़ी में अफगानिस्तान सरकार को करीब 93.5 करोड़ डॉलर का चूना लगा है। एक स्वतंत्र जांच रिपोर्ट में यह बात कही गयी है।

काबुल बैंक के संकट की सार्वजनिक जांच रिपोर्ट (रिपोर्ट ऑफ द पब्लिक इन्क्वायरी इनटू द काबुल बैंक क्राइसिस) शीर्षक 87 पृष्ठ की इस रिपोर्ट को स्वतंत्र संयुक्त भ्रष्टाचार निरोधक निगरानी तथा मूल्यांकन समिति ने तैयार किया है।

रिपोर्ट के मुताबिक बैंक के मुख्य निरीक्षकों, निगरानीकर्ताओं तथा प्रबंधकों की अगुवाई में कर्ज में धोखाधड़ी तथा गबन के कारनामे को अंजाम दिया गया। इससे बैंक को 93.5 करोड़ डॉलर का नुकसान हो जो मुख्यत: ग्राहकों की जमा राशि थी।

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि शेयरधारकों, संबंधित व्यक्तियों तथा कंपनियों के साथ-साथ बदनाम राजनीतिज्ञों को इससे लाभ पहुंचा। वर्ष 2010 सितंबर में काबुल बैंक संकट में आया और उसके बाद उसे अफगानिस्तान के केंद्रीय बैंक ने अपने नियंत्रण में ले लिया।

इसके बाद 5 सितंबर 2010 को पूर्व गवर्नर ने गह मंत्रालय को पत्र लिखकर काबुल बैंक के आंतरिक ऑडिट प्रबंधक तथा रिण प्रबंधक की यात्रा पर प्रतिबंध लगाने की मांग की। ये दोनों भारतीय नागरिक हैं।

बहरहाल, कार्यकारियों और उनकी मौजूदा स्थिति के बारे में रिपोर्ट में कोई खास  ब्यौरा नहीं दिया गया है।
 
 
 
टिप्पणियाँ