गुरुवार, 29 जनवरी, 2015 | 15:48 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
पटना विश्वविद्यालय के सिनेट की बैठक के दौरान विरोध कर रहे छात्रों पर लाठी चार्ज, छपरा संघ के चुनाव की मांग को लेकर विरोधमुरादाबाद: वकीलों ने दिया सिटी मजिस्ट्रेट को ज्ञापन। आज का आंदोलन समाप्त। कल रेल रोकेंगे। वकीलों की सीओ से नोंकझोंक भी हुई।लोकायुक्त की रिपोर्ट के बाद यूपी के दो विधायक बर्खास्तसंभल के मोहल्ला ठेर में रूम हीटर से दम घुटने की वजह से एक व्यापारी की मौत हो गई। कमरे में व्यापारी के साथ सो रही उसकी पत्नी व एक साल के मासूम की हालत भी गंभीर।अमरोहा के मेहंदीपुर गांव में नकली दूध बनाने की फैक्टी पकड़ी. पचास लीटर दूध व सामान बरामद. खाद्य एवं आपूर्ति विभाग की कार्रवाई.बरेली के फतेहगंज पश्चिमी कस्बे में प्रॉपर्टी डीलर के घर लाखों का डाकाआगरा : हाईकोर्ट बेंच को लेकर वकीलों में आपसी टकराव, संघर्ष समिति और ग्रेटर बार के पदाधिकारी भिड़े, बड़ी संख्या में फोर्स तैनात, पुलिस को फटकारनी पड़ीं लाठियांरामपुर के लालपुर में ट्रैक्टर ने बालक को रौंदा, मौत। हादसे के बाद हंगामा।
बहादुर शाह जफर की मजार पर पहुंचे खुर्शीद
यंगून, एजेंसी First Published:15-12-12 02:32 PM
Image Loading

विदेश मंत्री सलमान खुर्शीद जब यहां अंतिम मुगल शासक बहादुर शाह जफर की मजार पर पहुंचे तो वह जफर की एक यादगार पंक्ति का उल्लेख करना नहीं भूले। जफर ने लिखा था कि कितना है बदनसीब जफर, दफन के लिए, दो गज जमीन भी मिल ना सकी, कुए यार में।

खुर्शीद ने इसी पंक्ति को यहां बयां किया। इस मुगल शासक का निधन सात नवंबर, 1962 को रंगून (अब यंगून) में हुआ था। 1857 के स्वतंत्रता संग्राम में अंग्रेजी हुकूमत से लोहा लेते हुए वह पकड़े गए थे। इसके बाद अंग्रेजी हुकूमत ने उन्हें यंगून निर्वासित कर दिया।

इस मौके पर खुर्शीद ने वहां बहादुर शाह की खूबसूरत कृतियों को देखा। इनमें सभी वक्त की नमाजों का जिक्र है। खुर्शीद ने सन्स ऑफ बाबर नामक एक नाटक भी लिखा है जिसमें हर मुगल शासक और बहादुर शाह जफर के बारे में बहुत कुछ लिखा गया है।

मंत्री ने जफर के मकबरे की देखरेख करने वालों को अपने लिखे इस नाटक की एक प्रति भी भेंट की। खुर्शीद ने यहां की अतिथि पुस्तिका में लिखा कि इस स्थान का दौरा करने पर आध्यात्मिक और राजनीतिक के तौर पर मैं एक संपूर्णता और प्रेरणा महसूस करता हूं।

इस मौके पर खुर्शीद और उनकी पत्नी लुईस ने अकीदत पेश की और मजार पर चादर चढ़ाई। इससे पहले खुर्शीद ने यहां बौद्ध धर्म पर आयोजित तीन दिवसीय अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन का उद्घाटन किया। इस मौके पर म्यांमार के उप राष्ट्रपति साई मौक खाम भी मौजूद थे।

 
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड