बुधवार, 26 नवम्बर, 2014 | 09:33 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    प्रधानमंत्री ने 26/11 की छठवीं बरसी पर दी श्रद्धांजलि पीएम मोदी ने नेपाल संविधान को समय पर तैयार करने का आहवान किया झारखंड में पहले चरण में लगभग 62 फीसदी मतदान  जम्मू-कश्मीर में आतंक को वोटरों का मुंहतोड़ जवाब, रिकार्ड 70 फीसदी मतदान  राज्यसभा चुनाव: बीरेंद्र सिंह, सुरेश प्रभु ने पर्चा भरा डीडीए हाउसिंग योजना का ड्रॉ जारी, घर का सपना साकार अस्थिर सरकारों ने किया झारखंड का बेड़ा गर्क: मोदी नेपाल में आज से शुरू होगा दक्षेस शिखर सम्मेलन  दक्षिण एशिया में शांति, विकास के लिए सहयोग करेगा भारत काले धन पर तृणमूल का संसद परिसर में धरना प्रदर्शन
सच्ची हीरो थी गैंगरेप पीड़िता: भारतीय अमेरिकी
वॉशिंगटन, एजेंसी First Published:30-12-12 10:42 AMLast Updated:30-12-12 01:17 PM
Image Loading

दिल्ली गैंगरेप पीड़िता की मौत पर दुख और अविश्वास जाहिर करते हुए भारतीय अमेरिकियों ने रविवार को कहा कि वह सच्ची राष्ट्रीय हीरो थी। दिल्ली में रविवार 16 दिसंबर की रात एक चलती बस में 23 वर्षीय पैरामेडिकल छात्रा के साथ गैंगरेप हुआ था और उसे बुरी तरह मारा-पीटा गया था।

गंभीर रूप से घायल छात्रा की 29 दिसंबर की रात सिंगापुर के एक अस्पताल में मौत हो गई। पीड़िता के लिए न्याय की मांग के लिए यहां प्रदर्शन भी किया गया। नॉर्थ अमेरिकन पंजाबी एसोसिएशन (नापा) के अध्यक्ष सतनाम सिंह चहल ने कहा कि पीड़िता एक बहादुर और हिम्मत वाली लड़की थी जो अंमित सांस तक अपने सम्मान तथा जीवन के लिए लड़ती रही।

उन्होंने कहा कि वह वास्तविक हीरो है जो वर्तमान भारत के सर्वोच्च युवाओं और महिलाओं की प्रतीक है। राष्ट्र को भारत की इस बहादुर बेटी के निधन पर शोक मनाना चाहिए। उन्होंने स्वदेश में लोगों से आग्रह किया है कि वे इस मौत को जाया ना जाने दें। चहल ने कहा कि ऐसी घटना दोबारा ना हो यह सुनिश्चित करने के लिए हमें हर संभव कोशिश करनी चाहिए।

ग्रेटर वॉशिंगटन इलाके के एक उद्योगपति विनय सिंह का कहना है कि इस घटना से भारत सरकार की आंखें खुलनी चाहिए, विशेष तौर पर कानून और सुरक्षा एजेंसियों की। भारत के लोगों के साथ ही पूरी दुनिया भर के लोगों ने इस भारतीय बेटी की मौत पर शोक मनाया। सिंह ने कहा कि उसकी मौत जाया नहीं जानी चाहिए।

शिकागो की रितु शर्मा का कहना है कि पीड़िता के प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी कि भावनाओं और आक्रोश को सकारात्मक दिशा में मोड़ा जाए और ऐसे उपाय किए जाएं ताकि ऐसी घटना दोबारा ना हो। उन्होंने कहा कि लोगों द्वारा बड़ी संख्या में सड़कों पर उतर कर शांतिपूर्ण तरीके से किए गए प्रदर्शन प्रशंसनीय हैं।

इंडियन अमेरिकन मुस्लिम काउंसिल (आईएएमसी) ने एक बयान में उच्च न्यायालय की अवकाश प्राप्त महिला न्यायाधीश की अगुवाई में बनी समिति के विस्तार की मांग की है। संगठन ने सरकार से माग की है कि वह ना सिर्फ अन्य बलात्कार मामलों बल्कि सांप्रदायिक दंगों के दौरान हुई बलात्कार की घटनाओं के दोषियों को भी न्याय की जद में लाए।

इंडियन अमेरिकन मुस्लिम काउंसिल की अध्यक्ष शाहीन खतीब का कहना है कि गुजरात, पंजाब, ओडिशा और असम सभी जगहों पर सांप्रदायिक घटनाओं के दौरान बलात्कार की घटनाएं हुई हैं।

 

 

 
 
 
टिप्पणियाँ