शनिवार, 29 अगस्त, 2015 | 18:07 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
महाराष्ट्र पुलिस के प्रमुख संजीव दयाल ने कहा कि अगर यह साबित हुआ कि रायगढ़़ पुलिस के किसी अधिकारी ने शीना बोरा मामले की 2012 में हुई जांच में लीपा-पोती की है तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।मुरादाबाद: चंदौसी रोड पर 12 साल के आमिर हमज़ा नाम के बच्चे की गर्दन चाइनीज़ मांझे से कटी, इलाज के दौरान बच्चे की मौत
चीनी लेखक मो यान को साहित्य का नोबल
स्टॉकहोम, एजेंसी First Published:11-12-2012 11:34:36 AMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

चीनी लेखक मो यान को वर्ष 2012 के लिए साहित्य का नोबल पुरस्कार दिया गया है। उन्हें यह पुरस्कार स्टॉकहोम कांसर्ट हॉल में सोमवार को आयोजित एक कार्यक्रम में दिया गया।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार, नोबल पुरस्कार 2012 का समारोह स्वीडन की शाही धुन 'द किंग्स सन' से शुरू हुआ। मो यान ने काले रंग का औपचारिक वस्त्र पहन रखा था। वह धीरे-धीरे अपनी सीट तक पहुंचे और वहां अन्य नोबल पुरस्कार विजेताओं के साथ बैठ गए।

नोबल फाउंडेशन बोर्ड के अध्यक्ष मार्कस स्टॉर्च ने सबसे पहले समारोह को सम्बोधित किया। उन्होंने स्वीडन में आयोजित समारोह में भाग लेने वाले विजेताओं का स्वागत किया। स्वीडन के राजा कार्ल 16वें ने मो यान को नोबल डिप्लोमा, पदक तथा पुरस्कार राशि की पुष्टि करने वाले दस्तावेज दिए।

इससे पहले नोबल पुरस्कार की जूरी के सदस्यों ने साहित्य के क्षेत्र में मो यान की उपलब्धियों का जिक्र किया। राजा ने वर्ष 2012 के लिए भौतिकशास्त्र, रसायनशास्त्र, शरीरविज्ञान, चिकित्सा तथा अर्थशास्त्र के क्षेत्र में भी विजेताओं को पुरस्कार प्रदान किए।

वर्ष 1901 से ही नोबल पुरस्कार 10 दिसम्बर को प्रदान किए जाते हैं। उसी दिन अल्फ्रेड नोबल की पुण्यतिथि है।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingकोलंबो टेस्ट: पुजारा के शतक से संभला भारत
आठ महीने बाद टेस्ट क्रिकेट में वापसी कर रहे सलामी बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा के अनुशासित और धैर्यपूर्ण शतक और अमित मिश्रा के साथ उनकी रिकार्ड साझेदारी की मदद से भारत ने विषम परिस्थितियों से उबरते हुए श्रीलंका के खिलाफ तीसरे और अंतिम क्रिकेट टेस्ट के बारिश से प्रभावित दूसरे दिन पहली पारी में आठ विकेट पर 292 रन बनाए।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

जब संता के घर आए डाकू...
आधी रात को संता के घर डाकू आए।
संता को जगाकर पूछा: यह बताओ कि सोना कहां है?
संता (गुस्से से): इतना बड़ा घर है कहीं भी सो जाओ। इतनी छोटी बात के लिए मुझे क्यों जगाया!