शनिवार, 01 नवम्बर, 2014 | 05:56 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
विद्या प्रकाश ठाकुर ने भी राज्यमंत्री पद की शपथ लीदिलीप कांबले ने ली राज्यमंत्री पद की शपथविष्णु सावरा ने ली मंत्री पद की शपथपंकजा गोपीनाथ मुंडे ने ली मंत्री पद की शपथचंद्रकांत पाटिल ने ली मंत्री पद की शपथप्रकाश मंसूभाई मेहता ने ली मंत्री पद की शपथविनोद तावड़े ने मंत्री पद की शपथ लीसुधीर मुनघंटीवार ने मंत्री पद की शपथ लीएकनाथ खड़से ने मंत्री पद की शपथ लीदेवेंद्र फडणवीस ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली
दिल्ली सामूहिक बलात्कार पीड़िता की हालत अभी बहुत गंभीर: अस्पताल
सिंगापुर, एजेंसी First Published:28-12-12 11:24 AMLast Updated:28-12-12 01:27 PM

सिंगापुर के माउंट एलिजाबेथ अस्पताल में भर्ती होने के एक दिन बाद भी दिल्ली में सामूहिक बलात्कार की शिकार हुई 23 वर्षीय छात्रा की हालत बहुत गंभीर बनी हुई है। पीड़िता की हालत कल रात जैसी ही बनी हुई है।
    
अस्पताल के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉक्टर केल्विन लोह ने कल रात एक बयान में कहा था कि मरीज की स्थिति बहुत गंभीर बनी हुई है। उसका माउंट एलिजाबेथ अस्पताल के गहन चिकित्सा कक्ष (आईसीयू) में इलाज चल रहा है।
    
डॉक्टर ने कहा कि यहां आने से पहले पीड़िता के पेट की तीन सर्जरी हो चुकी हैं और उसे भारत में दिल का दौरा भी पड़ चुका है। उन्होंने कहा कि विशेषज्ञों का एक दल उस पर नजर बनाए हुए है और उसकी स्थिति को स्थिर बनाए रखने के लिए हरसंभव प्रयास कर रहा है।
    
अस्पताल में सुरक्षा कड़ी कर दी गई है और आईसीयू में प्रवेश देने से पहले हर व्यक्ति की जांच की जा रही है। इस बीच, द स्ट्रेटस टाइम्स ने आज खबर दी कि पीड़ित लड़की का परिवार मानसिक पीड़ा झेल रहा है लेकिन वे कई लोगों के शुक्रगुजार हैं।
    
खबर में पीड़िता के पिता और उसके दो भाइयों से मिलने वाले एक सूत्र के हवाले से कहा गया कि पिता का कहना है कि उन्हें फिर से आश्वासन दिया गया है कि उनकी बेटी के लिए सर्वश्रेष्ठ प्रयास किये जा रहे हैं और बाकी सब भगवान के हाथों में है। छात्रा के पिता इलाज और यात्रा सुविधा के लिए भारत सरकार और सिंगापुर के एहसानमंद हैं।
    
अखबार ने एक सूत्र के हवाले से कहा कि बलात्कार के सदमे के अलावा उन्हें (परिवार) इस विचार का आदी होना होगा कि वे अब विदेशी धरती पर हैं। सूत्र ने कहा कि परिजन आम लोग हैं, जिन्होंने कभी विमान में सवार होने या एयर एंबुलेंस में विदेश यात्रा करने का सपना नहीं देखा था।
    
परिजन अंग्रेजी नहीं बोल पाते हैं और अस्पताल के कर्मचारियों से बात करने के लिए वे दुभाषिये पर निर्भर हैं। भारतीय उच्चायोग ने मदद के लिए परिवार के साथ एक अधिकारी नियुक्त किया है।

 
 
 
टिप्पणियाँ