शुक्रवार, 24 अक्टूबर, 2014 | 15:00 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
कांग्रेस में बदल सकता है पार्टी अध्‍यक्षचिदंबरम ने कहा, नेतृत्‍व में बदलाव की जरूरत हैदेहरादून शहर के आदर्श नगर में एक ही परिवार के चार लोगों की हत्यागर्भवती महिला समेत तीन लोगों की हत्याहत्याकांड के कारणों का अभी खुलासा नहींपुलिस ने पहली नजर में रंजिश का मामला बतायाकोच्चि एयरपोर्ट पर जांच जारीविमान पर आत्मघाती हमले का खतराएयर इंडिया की फ्लाइट पर फिदायीन हमसे का खतरामुंबई, अहमदाबाद, कोच्चि में हाई अलर्ट
गैंगरेप के खिलाफ प्रदर्शन भारत की अरब क्रांति: जकारिया
वाशिंगटन, एजेंसी First Published:08-01-13 10:05 AM
Image Loading

अमेरिका में विदेश नीति के रसूखदार पत्रकारों में से एक फरीद जकारिया का मानना है कि पैरामेडिकल की 23 वर्षीय छात्रा के साथ 16 दिसंबर की रात सामूहिक बलात्कार और दरिंदगी की घटना के बाद पूरे भारत में हो रहे विरोध प्रदर्शन वहां पर अरब जगत में बदलाव के लिए हुई क्रांति की तरह हैं।
   
जकारिया ने कहा यह, बदलाव की खातिर भारत की अरब क्रांति है। लेकिन वास्तविक सुधार और परिवर्तन के लिए इसे बनाए रखने की जरूरत है। अगर भारतीय नेता अपने देश में महत्वपूर्ण बदलाव की जरूरत महसूस करते हैं तब ही यह भारतीय क्रांति अरब क्रांति से बेहतर साबित होगी।
   
मुंबई में जन्मे 48 वर्षीय जकारिया को भारत सरकार ने 2010 में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। वह टाइम पत्रिका के संपादक हैं और सीएनएन चैनल पर फरीद जकारिया जीपीएस के प्रस्तोता भी हैं।
   
रविवार के लोकप्रिय टॉक शो के हालिया संस्करण में और सोमवार को सीएनएन में भी जकारिया ने कहा कि भारत में दंड से मुक्ति देने की एक संस्कृति है। उन्होंने कहा कि इस साल दिल्ली में बलात्कार के 600 मामलों की खबरें आईं लेकिन केवल एक मामले में ही सजा हुयी।

यही कारण है कि निरंतर विरोध प्रदर्शन जारी हैं, क्योंकि उम्मीद की रोशनी बहुत ही मद्धम है। लोग सचमुच व्यथित हैं। भारत के मध्यम वर्ग में आई जागति ने शक्तिशाली नागरिक समाज को सक्रिय किया है। इसकी अब एक मांग बेहतर सरकार की भी है। एक साल पहले इसने भ्रष्टाचार को लेकर यही किया था।
 
 
 
टिप्पणियाँ