मंगलवार, 27 जनवरी, 2015 | 22:23 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
कर्नल राय को सोमवार को ही गणतंत्र दिवस के मौके पर वीरता सम्मान प्रदान किया गया था।कश्मीर मुठभेड़ में कर्नल राय और सिपाही शहीद।'मन की बात' पर ई बुक निकाली जाएगी: मोदी।जॉब फॉर आल, यस वी कैन: मोदी।मन की बात सुनने के लिए देशवासियों का आभारी हूं: मोदी।मोटापे और डायबिटीज से लड़ने में भारत की मदद को तैयार: बराक।मेरे पास वही समस्याएं आती हैं जिन्हे कोई हल नहीं कर पाता है: बराक।मुझे बेंजामिन फेंकलिन का जीवन चरित्र प्रेरक लगता है: मोदी।युवकों दुनिया को एक करो: मोदी।मोदी ने ओबामा को बेटियों के साथ भारत आने का निमंत्रण दिया।आज का युवा देश की सीमाओं से बंधा नहीं है: बराक।कुछ बनने के नहीं कुछ करने के सपने देखो: मोदी।मैं राष्ट्रपति पद से हटने के बाद बेटियों के साथ भारत आना चाहूंगा: बराक।मोदी को बराक ओबामा ने किताब के प्रमुख हिस्सों को पढ़कर सुनाया था।बराक ने मुझे स्वामी विवेकानंद के भाषण वाली किताब दी थी, यह बात मेरे दिल को छू गई थी: मोदी।अपनी बेटियों को बताऊंगा कि जितना आप जानतीं हैं भारत उतना ही भव्य है: बराक।मेरी बेटी को भारत की संस्कृति काफी पसंद है: बराक।मेरी बेटियां भारत आने को उत्सुक थीं, लेकिन स्कूली परीक्षा में व्यस्तता के कारण नहीं आ पाईं: बराक।मानव सेवा को ईश्वर सेवा मानने की गांधी जी की शिक्षा अनुकरणीय: बराक।भारत और अमेरिका दुनिया के दो बड़े लोकतंत्र हैं: बराक।बराक ओबामा ने मन की बात में भारत के लोगों को नमस्ते कहा।रविवार को हुई थी कार्यक्रम की रिकार्डिंग।बराक का मतलब है, वह जिसे आशीर्वाद प्राप्त है: मोदी।रेडियो पर मोदी-ओबामा ने शुरू की मन की बात।देवघर कोर्ट ने भड़काऊ भाषण मामले में केंद्रीय राज्य मंत्री गिरिराज सिंह के खिलाफ सम्मन जारी किया।मुजफ्फरपुर: ट्रेन इंजन से टकराई कार, एक की मौत।कोली की फांसी रोकने संबंधी याचिका पर सुनवाई पूरी, कल आएगा फैसला।
US सांसदों की मांग, मोदी को नहीं दिया जाए वीजा
वाशिंगटन, एजेंसी First Published:04-12-12 09:59 AMLast Updated:04-12-12 03:42 PM
Image Loading

अमेरिकी कांग्रेस के 25 सदस्यों के एक समूह ने विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन से मांग की है कि गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्‍द्र मोदी को वीजा देने पर लगी रोक जारी रखी जाए।
   
उन्होंने अपनी मांग के समर्थन में कहा है कि मोदी सरकार 2002 के गुजरात दंगों के पीड़ितों को उचित न्याय दिलाने में असफल रही है।
   
अमेरिकी प्रतिनिधि सभा के 25 सदस्यों ने हिलेरी को लिखे एक पत्र में कहा है कि उन्हें लगता है कि वीजा के उनके अनुरोध को लेकर अमेरिकी नीति में बदलाव से आगे की जांच और अभियोजन को बाधित करने के मोदी और उनकी सरकार के प्रयासों को बल मिलेगा।
   
गत 29 नवंबर को लिखा गया यह पत्र सोमवार को प्रेस के लिए जारी किया गया। रिपलिब्कन पार्टी के सांसद जो पिट्स और फ्रैंक वोल्स ने कैपिटल हिल में 2002 के गुजरात दंगा पीड़ितों के परिवारों के सदस्यों के साथ एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन की पूर्व संध्या पर यह पत्र जारी किया।
    
कांग्रेस सदस्यों ने पत्र में लिखा है कि भारत एक सफल लोकतंत्र है जो ऊंचे स्तर के नेतृत्व और प्रगति की आकांक्षा रखता है। यह परेशान करने वाली बात है कि गुजरात हमलों से उनका नाम जुड़ा होने के बावजूद भारत में कुछ राजनीतिक दल मोदी को बढ़ावा दे रहे हैं।

अमेरिका आने की मंजूरी मिलने से उन्हें 2002 के मानवाधिकार उल्लंघन के मामलों में अपनी जिम्मेदारी से बच निकलने में और मदद मिलेगी। पत्र पर हस्ताक्षर करने वाले प्रमुख अमेरिकी सांसदों में जॉन कोनयेर्स, ट्रेंट फैरंक्स, जैम्स मोरान, माइकल होंडा, बिल पासक्रेल, बारबरा ली, एडवर्ड मार्के, जिम जॉर्डन, डैन बर्टन, माइकल कापुआनो और डॉ लैबर्न शामिल हैं।
   
सांसदों ने कहा कि बुश प्रशासन ने मोदी को वीजा देने पर सही रोक लगायी थी। मोदी इस समय प्रधानमंत्री पद के लिए अपनी संभावित उम्मीदवारी के लिए समर्थन चाह रहे हैं, इसी के तहत वह विदेशी राष्ट्रों के नेताओं के साथ बैठकें कर रहे हैं, हमें लगता है कि वह अमेरिका आने के लिए फिर से अनुरोध कर सकते हैं।
    
सांसदों ने कहा कि हम अमेरिकी सरकार से अनुरोध करते हैं कि वह मोदी के वीजा से संबंधित अनुरोध को खारिज करे। सांसदों ने कहा कि आप जानते हैं कि नरेन्द्र मोदी, 2002 के दंगों के समय गुजरात के मुख्यमंत्री थे, जिनमें बहुत सी महिलाओं से बलात्कार हुआ, घर तोड़ दिए गए, लोगों के व्यापार को नुकसान पहुंचाया गया और 2,000 जानें गयीं।
    
पत्र में आरोप लगाया गया, गैर सरकारी संगठनों ने मोदी के नेतृत्व वाली गुजरात सरकार पर दंगों के साजिशकर्ताओं को मदद करने के आरोप लगाए हैं। दंगों की जांच के बाद हयूमन राइट्स वॉच ने कहा था कि मुस्लिमों और दूसरे धार्मिक अल्पसंख्यकों पर हमलों में राज्य की भाजपा सरकार के अधिकारियों और पुलिस ने मदद की थी।
   
सांसदों ने कहा कि चूंकि इन मामलों का अभी तक निपटारा नहीं हुआ है और पीड़ितों को पूरी तरह न्याय नहीं मिल पाया है, हम आपसे अनुरोध करते हैं कि मोदी को वीजा पर लगी रोक जारी रखी जाए। अमेरिका आने की मंजूरी मिलने से उन्हें 2002 के मानवाधिकार उल्लंघन के मामलों में अपनी जिम्मेदारी से बच निकलने में और मदद मिलेगी।

 
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड