मंगलवार, 28 जुलाई, 2015 | 23:14 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    भारत को लौटाया जाए कोहिनूर हीरा: कीथ वाज  याकूब की फांसी की सजा बदलने के लिए महाराष्ट्र के मुस्लिम विधायकों ने राष्ट्रपति से की अपील हो जाइए तैयार अब स्पाइसजेट सिर्फ 999 रुपये में कराएगी हवाई सफर कलाम के सम्मान में संसद दो दिनों के लिए स्थगित, मंत्रिमंडल ने शोक जताया बढ़ चला बिहार कार्यक्रम को हाईकोर्ट का झटका, ऑडियो-विडियो प्रदर्शन पर रोक CCTV में कैद हुए गुरदासपुर हमले के गुनहगार, AK-47 लिए सड़कों पर घूमते दिखे आतंकी साड़ी, शॉल, आम की कूटनीति बंद कर पाकिस्तान के खिलाफ इंदिरा जैसा साहस दिखाये PM मोदी 29 जुलाई से बाजार में आएगा माइक्रोसॉफ्ट ओएस विंडोज-10, करें डाउनलोड पीएम मोदी ने दी कलाम को श्रद्धांजलि, बोले- भारत ने खोया अपना रत्न कलाम का अंतिम संस्कार रामेश्वरम में होगा, पीएम मोदी सहित कई हस्तियों के पहुंचने की संभावना
नॉर्वे में भारतीय दंपति को कैद की सजा
ओस्लो, एजेंसी First Published:04-12-2012 06:01:53 PMLast Updated:04-12-2012 06:09:11 PM
Image Loading

नॉर्वे में अपने बच्चे के साथ बुरा व्यवहार करने के सिलसिले में आपराधिक मामले का सामना कर रहे भारतीय दंपति को सजा सुनाते हुए जिला अदालत ने पिता को 18 माह की जबकि मां को 15 माह कैद की सजा सुनाई।

आंध्रप्रदेश से सॉफ्टवेयर पेशेवर चन्द्रशेखर वल्लभनेनी और उनकी पत्नी अनुपमा को पुलिस ने पिछले महीने गिरफ्तार किया था। दोनों को बार-बार धमकी देकर, हिंसा और अन्य तरीकों का सहारा लेकर अपने बच्चे के साथ बुरा व्यवहार करने के मामले में दोषी करार दिया गया है।

अभियोजन पक्ष में इस मामले में पिता के लिए 18 माह की और मां के लिए 15 माह की कैद की सजा की मांग की थी। अदालत ने उसकी मांग मानते हुए दोनों को यही सजा सुनायी।

सजा पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए भारतीय विदेश मंत्रालय के अधिकारियों ने कहा कि नॉर्वे में स्थित हमारा दूतावास इस मामले में फंसे भारतीयों के साथ है। उन्होंने कहा कि उनकी हिरासत अवधि में भी काउंसलर अधिकारी उनके सपर्क में था। हम उन्हें जरूरत के मुताबिक काउंसलर सेवा मुहैया कराते रहेंगे और उनके वकील के संपर्क में बने रहेंगे।

गिरफ्तारी और आरोपों को वैध ठहराते हुए ओस्लो पुलिस विभाग के अभियोजन पक्ष के प्रमुख कर्ट लिर ने कहा कि बच्चे के शरीर पर जलने के निशान थे और जख्म भी थे। ये बेल्ट से पीटे जाने के निशान थे।

 
 
 
अन्य खबरें
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingप्रतिबंध हटाने के लिए बीसीसीआई से संपर्क करूंगा: श्रीसंत
जब वह तिहाड़ जेल में था तो वह आत्महत्या के बारे में सोच रहा था लेकिन तेज गेंदबाज एस श्रीसंत को अब उम्मीद बंध गई है कि वह वापसी कर सकते हैं और खुद पर लगे प्रतिबंध को हटाने के लिये वह बीसीसीआई से संपर्क करेंगे।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड