गुरुवार, 02 जुलाई, 2015 | 10:51 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    ललित मोदी ने बीजेपी नेता सुधांशु मित्तल पर लगाए हवाला कारोबारी से संबंधों के आरोप मोदी के विजय रथ को रोकना कांग्रेस के लिए असंभव: हंसराज भारद्वाज  किरण रिजिजु के लिए तीन यात्रियों को एयर इंडिया की फ्लाइट से उतारा ये सिफारिशें मानी गईं तो डबल हो जाएगी सांसदों की सैलेरी, पेंशन में होगी 75% बढ़ोत्तरी RSS की सलाह, भूमि बिल पर सहयोगी दलों से बातचीत करे सरकार  भैंस और मुर्गियों के बाद अब यूपी पुलिस को है 'चुड़ैल' की तलाश यूपी: नौकरी का झांसा देकर छात्रा के साथ किया रेप, बनाया वीडियो ललित मोदी मामला: इन नए खुलासों से कांग्रेस और बीजेपी दोनों परेशान अब मोबाइल फोन से डायल हो सकेगा लैंडलाइन नंबर गोद से गिरी बच्ची, बचाने के लिए मां भी चलती ट्रेन से कूदी
भारतीय मूल की नर्स की स्मृति में हुई शोकसभा
लंदन, एजेंसी First Published:15-12-12 11:48 AM
Image Loading

भारतीय मूल की दिवंगत नर्स जैसिन्था सालदान्हा की स्मृति में ब्रिस्टल में एक शोकसभा का आयोजन किया गया। ऑस्ट्रेलिया के दो प्रस्तोताओं द्वारा खुद को शाही परिवार का सदस्य बताते हुए लंदन के किंग एड्वर्ड सप्तम अस्पताल में फोन करने और जैसिन्था द्वारा उन्हें गर्भवती डचेज ऑफ कैम्ब्रिज केट मिडलटन के बारे में जानकारी देने के मामले का खुलासा होने के बाद इस नर्स ने खुदकुशी कर ली थी।

केट का इलाज इसी अस्पताल में हुआ था। ब्रिस्टल के सेंट टेरेसा चर्च में आयोजित शोकसभा में जैसिन्था के मित्र और परिवार के सदस्य शामिल हुए। जैसिन्था के पति बेनेडिक्ट बारबोजा अपने बच्चों लीशा (14) और जुनाल (16) को साथ लेकर चर्च पहुंचे। चर्च के फादर टॉम फाइनगेन ने जुनाल को गले लगाया और सांत्वना दी। शोकसभा स्थल पर जैसिन्था की फूलों से सजी तस्वीर लगाई गई थी।

जैसिन्था इस चर्च की सदस्य थीं। वह ब्रिस्टल स्थित दो अन्य चर्चों में अपने परिवार के साथ नियमित जाती थीं। फादर टॉम ने किंग एड्वर्ड सप्तम अस्पताल की नर्स जैसिन्था के बारे में संक्षिप्त जानकारी दी और फिर उन्होंने लोगों से उसकी याद में मोमबत्तियां जलाने को कहा। उन्होंने जैसिन्था के पति और दोनों बच्चों की ओर से संदेश भी पढ़े। शोकसभा करीब एक घंटे तक चली। इसके बाद जैसिन्था के परिवार के सदस्यों ने कुछ नहीं कहा।

दिवंगत नर्स का शव अंतिम संस्कार के लिए विमान से भारत भेजा गया है। किंग एड्वर्ड सप्तम अस्पताल में भी शोकसभा आयोजित की गई जहां जैसिन्था काम करती थीं। दोनों प्रस्तोताओं ने खुद को महारानी और प्रिंस ऑफ वेल्स बताते हुए फोन किया था। उनकी बात पर भरोसा कर नर्स ने फोन अपने सहयोगी को दे दिया था जिसने गर्भवती केट के अस्पताल में इलाज का ब्यौरा उन्हें दिया था।

अस्पताल के मुख्य कार्यकारी अधिकारी जॉन लोफ्टाउस ने कहा कि अस्पताल के सभी लोग जैसिन्था को जानते थे और सभी लोग उसकी मौत से सदमे में हैं। इस बीच, द गार्जियन की खबर में कहा गया है कि जांच से पता चला है कि जैसिन्था ने तीन सुसाइड नोट छोड़े हैं। एक में अस्पताल के कर्मचारियों की आलोचना की गई है। इस नोट के कारण उसका परिवार नाराज है और समझा जाता है कि उसके पति बेनेडिक्ट बारबोजा अस्पताल की जांच चाहते हैं।

जैसिन्था के परिवार के करीबी एक सूत्र ने डेली मिरर से कहा कि एक पत्र बड़ा है जिसमें अस्पताल की आलोचना है। जैसिन्था ने अस्पताल में अपने साथ किए गए सलूक पर सवाल उठाए हैं। बेनेडिक्ट चाहते हैं कि इसकी जांच हो और सच सामने आए।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड