Image Loading Varanasi is the Anti-Corruption Court, former Minister Rakeshdhar Tripathi Surrender, gets bail - Hindustan
रविवार, 23 अप्रैल, 2017 | 15:22 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • टीवी गॉसिप: क्रिकेट छोड़ भज्जी ने किया पोल डांस। कपिल ने सुनील को कहा थैंक्स।...
  • नवी मुंबई: कार शोरूम में आग लगाने से दो लोगों की मौत
  • टॉप 10 न्यूज़: विडियो में देखें देश और दुनिया की अभी तक की बड़ी खबरें
  • स्पोर्ट्स स्टार: विराट की टीम को मजबूती, इस स्टार बल्लेबाज की हुई वापसी। पढ़ें...
  • बॉलीवुड मसाला: जिन्होंने शो छोड़ा कपिल ने उन्हें कहा शुक्रिया, देखें EMOTIONAL VIDEO।...
  • मौसम दिनभरः दिल्ली-एनसीआर में आज रहेगी गर्मी। लखनऊ में छाए रहेंगे बादल। पटना,...
  • ईपेपर हिन्दुस्तानः आज का अखबार पढ़ने के लिए क्लिक करें
  • आपका राशिफलः कन्या राशि वालों को परिवार का सहयोग मिलेगा, नौकरी में तरक्की के बन...
  • सक्सेस मंत्र: काम को बोझ समझकर नहीं बल्कि पूरे मन और आनंद से करें
  • MCD चुनाव 2017: थोड़ी देर में शुरू होगा मतदान, 56 हजार सुरक्षाकर्मी करेंगे निगरानी
  • MIvDD : मुंबई ने दिल्ली को 14 रन से हराया

आय से अधिक संपत्ति मामले में पूर्व मंत्री ने किया सरेंडर

वाराणसी निज संवाददाता First Published:19-10-2016 03:38:58 PMLast Updated:20-10-2016 12:51:30 AM
आय से अधिक संपत्ति मामले में पूर्व मंत्री ने किया सरेंडर

आय से अधिक संपत्ति के मामले में आरोपित पूर्व उच्च शिक्षा मंत्री राकेशधर त्रिपाठी ने बुधवार को विशेष न्यायाधीश (भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम) शशिकांत उपाध्याय की अदालत में समर्पण कर दिया। इस दौरान आरोपी की तरफ से हाईकोर्ट के आदेश साथ जमानत अर्जी दाखिल की गई। अदालत में अभियोजन ने इस जमानत अर्जी पर आख्या तलब करने के लिए समय मांगा। अदालत ने पूर्व मंत्री की अंतरिम जमानत मंजूर कर दी। अगली सुनवाई 2 नवंबर को होगी।

अभियोजन के अनुसार तत्कालीन बसपा सरकार में उच्च शिक्षा मंत्री रहे राकेशधर ने आय से अधिक संपत्ति बनाई। इसकी शिकायत पर शासन के आदेश पर खुली जांच हुई। आय से अधिक संपत्ति रखने के मामले में एंटीकरप्शन की टीम ने 18 जून 2013 को इलाहाबाद के मुट्ठीगंज थाने में मुकदमा दर्ज कराया। इस मामले की जांच सतर्कता विभाग ने की थी।

सतर्कता जांच में भी मिले दोषी
जांच में सतर्कता विभाग ने राकेशधर को आय से अधिक सम्पत्ति रखने का दोषी पाया। आरोप लगाया कि उनकी आय पूरे कार्यकाल में 49 लाख रुपये थी। उन्होंने अपने और परिवार पर 2007 से 2011 के बीच में करीब पौने तीन करोड़ रुपये खर्च किये। जो आय से सवा दो करोड़ रुपये अधिक थे। जांच में पाया गया कि यह रकम उन्होंने मंत्री रहते हुए कमाई और लोक सेवक पद पर रहते हुए संपत्ति अर्जित की है। आरोप है कि उन्होंने अवैध स्रोतों से 122 करोड़ रुपये की चल और अचल संपत्ति अर्जित की है। इस संबंध में स्पष्टीकरण भी मांगा गया लेकिन राकेशधर ने संतोषजनक जबाव नहीं दिया।

शासन ने राज्यपाल की संस्तुति मिलने के बाद मुकदमा दर्ज कराया। इसी साल कोर्ट में चार्जशीट भी दाखिल कर दी गई। अदालत ने हाजिर न होने पर राकेशधर त्रिपाठी के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया था। इसके खिलाफ उन्होंने हाईकोर्ट इलाहाबाद का दरवाजा खटखटाया। हाईकोर्ट ने राहत देते हुए संबंधित कोर्ट में एक माह के अंदर हाजिर होने का निर्देश दिया।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: Varanasi is the Anti-Corruption Court, former Minister Rakeshdhar Tripathi Surrender, gets bail
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
संबंधित ख़बरें