Image Loading The 29-year-old murder case to life imprisonment - Hindustan
मंगलवार, 28 मार्च, 2017 | 09:44 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • #INDvsAUS धर्मशाला टेस्ट के चौथे दिन का खेल शुरू, सीरीज और मैच जीतने से 87 रन दूर टीम...
  • टॉप 10 न्यूज: बॉर्डर पर आंतक- शोपियां में पुलिस के घर हमला, बडगाम में मुठभेड़ जारी,...
  • हेल्थ टिप्स: कोलेस्ट्रॉल को कंट्रोल करता है काला जीरा, वजन घटाने में भी करता है...
  • हिन्दुस्तान ओपिनियन: पूर्व आईपीएस अधिकारी विभूति नारायण राय का लेख- पाकिस्तानी...
  • मौसम दिनभर: दिल्ली-एनसीआर, लखनऊ, पटना, रांची और देहरादून में होगी कड़ी धूप।
  • ईपेपर हिन्दुस्तान: आज का समाचार पत्र पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।
  • आपका राशिफल: मिथुन राशि वालों के आत्मविश्वास में वृद्धि होगी, अन्य राशियों का...
  • सक्सेस मंत्र: मुश्किलें देखकर कभी न हारें हिम्मत, क्लिक कर पढ़ें
  • टॉप 10 न्यूज: चैत्र नवरात्रि आज से, हिन्दू नव वर्ष का भी शुभागमन, अन्य बड़ी खबरों के...
  • पढ़ें रात 11 बजे की टॉप खबरें, शुभरात्रि
  • आपकी अंकराशि: क्लिक करें और पढ़ें कैसा रहेगा आपका कल का दिन
  • प्राइम टाइम न्यूज़: पढ़े अब तक की 10 बड़ी खबरें
  • नवरात्रि विशेष: नवरात्रि 28 मार्च से, पढ़ें इससे जुड़ी 10 खबरें
  • बच्चों को लेकर छलका करण का दर्द, पेरेंट्स को दी ये सलाह, यहां पढ़ें बॉलीवुड की 10...
  • हिन्दुस्तान Jobs: AIIMS पटना में असिस्टेंट प्रोफेसर के पदों पर होंगी नियुक्तियां,...
  • PM मोदी के गवर्नेंस मॉडल पर चल रहे हैं CM योगी, पढ़ें राज्यों से अब तक की 10 बड़ी ख़बरें
  • टॉप 10 न्यूज़: Video में देखें, शाम 6 बजे तक की देश की बड़ी खबरें
  • INDvsAUS: तीसरे दिन का खेल खत्म, भारत को जीत के लिए 87 रन की जरूरत

मऊ में 29 साल पुराने मामले में हत्यारोपित को उम्रकैद

मऊ। निज संवाददाता First Published:19-10-2016 05:50:32 PMLast Updated:20-10-2016 08:31:26 AM

मऊ में 29 साल पुराने हत्या के मामले में सुनवाई करते हुए फास्ट ट्रैक कोर्ट के जज वीर नायक सिंह ने आरोपित जगदीश यादव को दोषी पाते हुए उम्रकैद के साथ-साथ 10 हजार रुपए का अर्थ दण्ड से भी दंडित किया। घटना के तीन आरोपित बनवारी, उदय नारायण यादव व शिव शंकर मौर्य की मुकदमे के दौरान मृत्यु हो जाने से अदालत ने तीनों के खिलाफ मुकदमा समाप्त कर दिया। घटना मधुबन थाना क्षेत्र के नेवादा गांव की है।

मुकदमे के अनुसार 6 जून 1987 की रात में राम प्रसाद, उसके भाई रामदरश, रामायन, जगदीश आदि सोए थे। इस दौरान किसी के आने की आहट से राम प्रसाद की नींद टूट गयी। राम प्रसाद के मुताबिक, आरोपित बनवारी के ललकारने पर जगदीश ने जान मारने की नीयत से कट्टे से मेरे भाई रामदरश के ऊपर फायर झोंक दिया, जिससे मेरे भाई रामदरश की मृत्यु हो गई। राम प्रसाद की तहरीर पर मधुबन थाना क्षेत्र के नेवादा निवासी बनवारी, जगदीश यादव, उदय नारायण यादव व शंकर मौर्य के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था।

बाद विवेचना आरोप पत्र न्यायालय में प्रेषित किया गया। बचाव पक्ष की ओर से कहा गया कि आरोपित को झूठे मुकदमे में फंसाया गया है। जबकि अभियोजन पक्ष के अपर जिला शासकीय अधिवक्ता नंद लाल भारती ने सात गवाह पेश कर घटना के कथानक को सिद्ध कराया। दोनों पक्षों के तर्कोँ को सुनने तथा पत्रावली में उपलब्ध साक्ष्य एवं केस डायरी के अवलोकन के बाद न्यायाधीश ने आरोपी जगदीश यादव को हत्या का दोषी पाते हुए सजा सुना दी।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: The 29-year-old murder case to life imprisonment
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
संबंधित ख़बरें