class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मोहन भागवत की आतंकी से तुलना पर बरेली काॅलेज में बवाल

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत और गोलवलकर की आतंकी से तुलना मामले में बीएचयू के रिटायर्ड प्रोफेसर चौथीराम यादव पर मुकदमा दर्ज करने के आदेश जारी कर दिए गए हैं। बरेली कॉलेज में आयोजित सेमीनार में बोलते हुए उन्होंने विवादित टिप्पणी की थी। इसके विरोध में एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने कॉलेज में तोड़फोड़ की। कार्यकर्ताओं की मांग पर एसपी सिटी ने रिपोर्ट दर्ज करने के आदेश दिए। चौथीराम के बयान की हर तरफ निंदा की जा रही है।

बरेली कॉलेज में चल रहे सेमिनार के दौरान मुख्य अतिथि के आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत की तुलना आतंकवादी से करने पर हंगामा खड़ा हो गया। मंच पर मौजूद वक्ताओं ने प्रोफेसर की इस टिप्पणी का विरोध कर दिया। मोहन भागवत पर टिप्पणी से नाराज एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने जमकर हंगामा काटा।

 

सभागार के बाहर रखी कुर्सियां टेबल तोड़ डाले। किताबें उठा कर फेंक दी। छात्र नेता प्रोफेसर से सार्वजनिक माफी मांगने की मांग करते हुए धरने पर बैठ गए।

बरेली कॉलेज में हिंदी विभाग की ओर से दो दिवसीय सेमिनार का आयोजन किया गया था। रविवार को सेमिनार के पहले दिन मुख्य अतिथि काशी विद्यापीठ के रिटायर्ड प्रोफेसर चौथीराम यादव ने मोहन भागवत की तुलना आतंकवादियों से कर दी। अपने उद्बोधन में चौथीराम यादव ने मोदी के सबका साथ सबका विकास और डिजिटल इंडिया पर भी करारा हमला किया। कहा  कि कुछ लोग आप कुछ लोग दोहरा मापदंड अपनाते हैं। वह गांधी की तारीफ करते हैं और आतंकवादी लोग गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को माला पहनाते हैं। उन्होंने मोहन भागवत और गोलवलकर का नाम लेते हुए आतंकवादी कहा और कहा कि ऐसे लोगों को नकारना चाहिए। यह आतंकवादी लोग हिंदूवादी एजेंडा लागू करना चाहते हैं।

मंच पर बैठे एमएच पीजी कॉलेज मुरादाबाद के प्राचार्य डॉ विशेष गुप्ता ने टिप्पणी का मंच से ही विरोध कर दिया। बरेली कॉलेज के तमाम शिक्षकों ने भी टिप्पणी को बेहद गलत बताया और कहा कि मोहन भागवत को आतंकवादी कहना गलत है। इसकी जानकारी होने पर एबीवीपी के छात्र नेता भी सभागार पहुंच गए। सभागार के अंदर ही हंगामा शुरू कर दिया। सभागार में मौजूद बरेली कॉलेज के छात्रसंघ महामंत्री और समाजवादी छात्र सभा के निवर्तमान जिला अध्यक्ष हृदेश यादव और अनूप यादव ने सभागार के अंदर हंगामे का विरोध किया इसको लेकर एबीवीपी छात्र नेता अनिल चौबे अजीत पटेल मनजीत का समाजवादी छात्र सभा के छात्र नेताओं से विवाद और हाथापाई हो गई। कुछ देर में मारपीट होने लगी। वहां मौजूद शिक्षकों ने दोनों पक्षों को के बीच में बचाव किया।

इससे भड़के छात्र नेताओं ने सभागार के बाहर जमकर तोड़फोड़ की और नारेबाजी शुरू कर दी। छात्र नेताओं ने कहा कि बरेली कॉलेज को वह जेएनयू नहीं बनने देंगे हंगामे की सूचना पर एएसपी आकाश तोमर भी पहुंच गए एबीवीपी छात्र नेताओं ने एएसपी आकाश तोमर से चौथीराम वर्मा के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने की मांग की। विवाद को देखते हुए बरेली कॉलेज परिसर में पुलिस फोर्स तैनात कर दी गई है। उधर चौथीराम यादव ने कहा उन्होंने अपनी टिप्पणी में मोहन भागवत और गोलवलकर का नाम जरूर लिया पर उनको आतंकवादी नहीं कहा। चौथीराम यादव ने कहा उन्होंने यह जरूर कहा था कि देश के बाहर गांधी जी के नाम के कसीदे पढ़े जाते हैं और देश में वही लोग उनके हत्यारे नाथूराम गोडसे को माला पहनाते हैं।

इस दोहरे मापदंड पर उन्होंने टिप्पड़ी की। एमएच पीजी कॉलेज मुरादाबाद के प्राचार्य डॉ विशेष गुप्ता ने कहा कि उन्होंने मंच से इस टिप्पणी का विरोध किया था। यह साहित्यिक कार्यक्रम था इसे राजनीतिक रूप देने की आवश्यकता नहीं थी। एक साहित्यकार को इस तरह के टिप्पणी शोभा नहीं देती है। इस टिप्पणी पर बरेली कॉलेज के शिक्षकों ने नाराजगी जताई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:organic demolition in bareilly college
From around the web