Image Loading muslim women supported personal law - Hindustan
शनिवार, 21 जनवरी, 2017 | 16:14 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
up election
ब्रेकिंग
  • पिछले साल गलती से सीमा रेखा पार करने वाले भारतीय जवान चंदू बाबूलाल चौहान को...
  • बिहारः पटना के अनीसाबाद पुलिस कॉलोनी के पास मानव श्रृंखला के लाइन में लगी...
  • भारतीय जवान चंदू बाबूलाल चौहान को रिहा करेगा पाकिस्तान। 29 सितंबर 2016 को गलती से...
  • शराबबंदी के समर्थन में मानव श्रृंखला का हिस्सा बने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश...
  • यूपी चुनावः मुलायम के करीबी रहे सपा नेता अंबिका चौधरी बसपा में शामिल
  • भाजपा पर बसपा का हमला, मायावती बोलीं- केंद्र की नीतियों से लोग परेशान
  • कमांडर्स कांफ्रेंस के लिए देहरादून पहुंचे पीएम नरेंद्र मोदी, पूरी खबर पढ़ने के...
  • पढे़ं प्रसिद्ध इतिहासकार रामचन्द्र गुहा का ब्लॉगः गांधी और बोस को एक साथ देखें
  • मौसम अलर्टः दिल्ली-NCR का न्यूनतम तापमान 5 डिग्री सेल्सियस, देहरादून में बादल छाए...
  • राशिफलः सिंह राशिवालों के कार्यक्षेत्र में परिवर्तन और आय में वृद्धि हो सकती...
  • Good Morning: आज का हिन्दुस्तान अखबार पढ़ने के लिए क्लिक करें।

तीन तलाक का मुद्दा: मुस्लिम महिलाओं ने पर्सनल लॉ का समर्थन किया

बरेली। कार्यालय संवाददाता First Published:19-10-2016 10:10:07 PMLast Updated:19-10-2016 10:10:07 PM
तीन तलाक का मुद्दा: मुस्लिम महिलाओं ने पर्सनल लॉ का समर्थन किया

तीन तलाक और कॉमन सिविल कोड को लेकर केंद्र सरकार की पहल पर उलेमा के बाद अब मुस्लिम महिलाएं, लड़कियों ने विरोध के तेवर दिखाए हैं। मुस्लिम संगठनों से जुड़ी महिलाओं ने कहा कि सरकार दो-चार महिलाओं के बहकावते में आकर अपना फैसला दे रही है। अगर ऐसा है तो हम जनमत के लिए भी तैयार है।

बिहारीपुर कलां स्थित मदरसा तालिमुल इस्लाम की फातिमा आलिया, गुलबख्श, राबिया, हुमैरा, आसिया ने कहा कि ज्यादातर मुस्लिम महिलाएं कुरान और हदीस में कही गई बातों पर ही अमल करती हैं। उन्होंने कहा कि यदि इस्लाम में पुरुषों को तलाक का हक दिया गया है तो महिलाओं को भी ‘खुला’ का अधिकार दिया गया है। चेतावनी दी कि अगर शरीयत के बनाए नियमों और मुस्लिम पर्सनल लॉ में दखलअंदाजी की गई तो मुस्लिम महिलाएं आंदोलन छेड़ने से भी पीछे नहीं हटेंगी।

शहनाज, फात्मा, रूकसाना, आयशा फात्मा नूरी, नाजरीन, गुलजार फात्मा, शबनम, शाजिया, फिरदौस आदि ने कहा कि सरकार को मुस्लिम पर्सनल लॉ में दखल नहीं देना चाहिए। केंद्र में बैठी भाजपा की सरकार सिर्फ वोट के लिए इस तरह के मामले उठाकर जनता को गुमराह करने में लगी है। सरकार जो चाहे कर ले मुसलमान शरीयत कानून पर ही अमल करेंगे।

तलाक मसले का हल शरीयत में
दो चार महिलाओं ने तलाक पर आपत्ति दर्ज कर दी तो उसको सरकार गंभीरत से ले रही है। अगर महिलाओं की राय ही जाननी है तो सरकार जनमत कराए। तलाक, शादी और दीनी मसलों को आलिमे दीन ही बैठकर सुलझा सकते हैं, नये कानून से मामले और बिगड़ेंगे।
- नीलोफर मलिक, अध्यक्ष महिला विकास समिति

तलाक पर सरकार नहीं शरई कानून चलेगा
औरतों को इस्लामिक कानून को समझना होगा। दीनी इल्म की जानकारी बेहद जरूरी है। तलाक मसला सरकार नहीं शरीयत तय करेगी। मदरसे की तमाम लड़कियां कॉमन सिविल कोड का विरोध कर रही हैं।
- हाफिज इमरान रजा बरकाती, प्रबंधक, मदरसा तालिमुल इस्लाम गरीब नवाब

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: muslim women supported personal law
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
Rupees
क्रिकेट स्कोरबोर्ड