class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

संविदाकर्मियों को 11 माह से नहीं मिला वेतन

प्रदेश भर के सरकारी अस्पतालों में ठेके पर तैनात संविदा कर्मचारियों को बीते 11 महीने से वेतन नहीं मिला है। इसकी वजह से कर्मचारियो को खासी दुश्वारियां झेलनी पड़ रही हैं। कर्मचारियों का कहना है कि यदि जल्द ही बकाया वेतन भुगतान नहीं हुआ तो हड़ताल की जाएगी।

सरकारी अस्पतालों में अवनी परिधि नाम की संस्था मैन पावर की आपूर्ति कर रही हे। पैरामेडिकल, वार्ड ब्वॉय, चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी समेत दूसरे पदों पर कर्मचारियों की संविदा पर तैनाती है।

इन कर्मचारियों को बीते 11 महीने से वेतन के नाम पर फूटी पाई भी नहीं मिल है। कुछ अस्पतालों में हंगामे के बाद करीब चार महीने पहले आधा-अधूरा वेतन भुगतान हुआ है। पर, यह भुगतान गिने-चुने अस्पतालों में हुआ था। कर्मचारियों का आरोप है कि स्वास्थ्य विभाग के अफसर जानबूझकर वेतन भुगतान नहीं कर रहे हैं। कर्मचारियों की परेशानी से अफसरों को कोई सरोकार नहीं हैं। संस्था के अफसरों से कई बार गुहार लगाई। लेकिन सुनवाई नहीं हुई। अस्पताल के अधिकारियों ने भी हाथ खींच लिया है। ऐसे में कर्मचारी लावारिस की तरह काम कर रहे हैं। कर्मचारियों का कहना है कि यदि दो हफ्ते के भीतर बकाया वेतन का भुगतान नहीं हुआ तो हड़ताल की जा सकती है। इसकी पूरी जिम्मेदारी स्वास्थ्य विभाग के अफसरों की होगी।

संस्था के निदेशक का तर्क
अधिकारियों का कहना है कि प्रदेश सरकार को बीते वित्तीय वर्ष में एक करोड़ 13 लाख रुपये का भुगतान करना चाहिए। महज पांच करोड़ रुपये ही मिले हैं। संस्था के निदेशक अज्ञात गुप्ता का कहना है कि बजट के अभाव में कर्मचारियों को वेतन नहीं दिया जा सका है। इस संबंध में स्वास्थ्य विभाग व शासन के उच्च अधिकारियों को पत्र भेजा जा चुका है। बजट मिलते ही वेतन का भुगतान कर दिया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:health departments contract workers did not get salary for 11 months