class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

18 साल सांसद रहे योगी संविधान में चाहते थे ये 6 बड़े बदलाव

18 साल सांसद रहे योगी संविधान में चाहते थे ये 6 बड़े बदलाव

1/218 साल सांसद रहे योगी संविधान में चाहते थे ये 6 बड़े बदलाव

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने 44 वर्षीय योगी आदित्यनाथ 18 साल तक सांसद रहे। इस दौरान उन्होंने कई प्रमुख मुद्दों और बहसों में भाग लिया। उन्होंने केंद्र सरकार के मंत्रियों से हिन्दुत्व से जुड़े कई विषयों पर सवाल भी पूछे खासकर हाशिये पर पड़े अल्पसंख्यक समुदाय (मुसलमानों) को लेकर भी सवाल पूछे।

2014 में भाजपा जब केंद्र की सत्ता में आई तो आदित्यानाथ योगी ने धार्मिक विषय से जुड़ा एक प्राइवेट मेंबर्स बिल लाए, लेकिन यह कानून का रूप नहीं ले पाया।

एक्शन में योगी सरकार: 2 बूचड़खाने सील, अधिकारी से संपत्ति का ब्यौरा मांगा

जानिए सांसद के रूप में योगी की 6 बड़ी और विवादित मांगें-

1 - 2015 में योगी आदित्यनाथ संविधान संशोधन का बिन लाए और मांग की संविधान में आर्टिकल 25a जोड़कर जबरन और लालच देकर होने वाले धर्मांतरण पर रोक लगाई जाए।

2 - इसी साल योगी संविधान के अनुच्छेद -1 में संशोधन का प्रस्ताव लाए। जिसमें मांग की गई थी कि संविधान में इंडिया शब्द को हिन्दुस्तान से बदला जाए।

Next
  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:chief minister yogi adityanath spent 18 years in lok sabha see his 6 big demands