class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अब महिला कोचों में बैठने वाले पुरुष यात्री जाएंगे जेल

अब महिला कोचों में बैठने वाले पुरुष यात्री जाएंगे जेल

महिला कोचों में आयेदिन छेड़छाड़, अभद्रता, छिनैती की घटनाओं को देखते हुए रेलवे अब सख्त कदम उठाएगा। डीजी रेलवे ने सख्त आदेश दिए हैं। चौबीस घंटे महिला और विकलांग कोचों में अभियान चलाकर चेकिंग हो। अगर पुरुष यात्री महिला कोच में सफर करते पकड़े जाएं तो कार्रवाई करके जेल भेजा जाए। प्रतिदिन की रेलवे, जीआरपी और आरपीएफ कंट्रोल में चेकिंग रिपोर्ट सूचित की जाए।

अधिकारियों के मुताबिक, किसी महिला यात्री ने रेलवे बोर्ड में शिकायत दर्ज कराई कि टे्रनों में कहने को महिला कोच होते हैं। लेकिन स्क्वॉड के सिपाही पुरुष यात्रियों को रुपए लेकर महिला कोचों में बैठाते हैं। महिला और विकलांग कोच एक होता है। उसमें हृष्टपुष्ट पुरुष यात्री दबंगई से सफर करते हैं। महिला कोचों में इतनी भीड़ हो जाती है, जिससे बैठना तो दूर खड़ा होना मुश्किल होता है।

महिलाओं के साथ धक्का मुक्की और छेड़छाड़ की जाती है। महिला यात्री की शिकायत को बोर्ड ने गंभीरता से लेते हुए डीजी रेलवे को कार्रवाई के लिए निर्देश दिए। डीजी ने सभी कप्तान और सीओ की क्लास लगाई बल्कि चौबीस घंटे चेकिंग को निर्देश दिए। इतना नहीं चौबीस घंटे में चार बार चेकिंग की रिपोर्ट कंट्रोल में दर्ज कराई जाएगी। किन-किन गाड़ियों के महिला कोच चेक किए। कितने यात्री उतारे गए। उन यात्रियों पर क्या कार्रवाई की गई। बरेली जंक्शन, सिटी स्टेशन पर आदेश का पालन करने को तीन-तीन टीम बनाई गई हैं। जो आठ-आठ घंटे महिला कोचों, प्लेटफार्मों की चेकिंग करेंगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Male passengers will not travel in female compartment