Image Loading small scale industry should be developed in hilly areas - Hindustan
सोमवार, 27 फरवरी, 2017 | 00:41 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • बिहार आईएएस अफसरों ने कहा, मुख्यमंत्री का भी मौखिक आदेश नहीं मानेंगे, पूरी खबर...
  • 1 मार्च से 5वें ट्रांजेक्शन पर देना होगा 150 रुपए टैक्स, पूरी खबर पढ़ने के लिए क्लिक...
  • अखिलेश का पीएम पर वार, कहा- देश को अपने किए काम बताएं मोदी, पूरी खबर के लिए क्लिक...
  • जनता के मुद्दे हमारे लिए महत्वपूर्णः यूपी सीएम अखिलेश यादव
  • महाराजगंज में बोले अखिलेश यादव, जनता अभी तक मोदी के मन की बात नहीं समझ पाई
  • मन की बात में बोले पीएम मोदी, अब तक DIGI धन योजना के तहत 10 लाख लोगों को इनाम दिया गया
  • मन की बात में बोले पीएम मोदी, ISRO ने देश का सिर ऊंचा किया
  • सपा की धुआंधार सभाएं आज, लालू यादव भी प्रचार करने उतरेंगे मैदान में। पूरी खबर...
  • मौसम अलर्टः दिल्ली-एनसीआर, लखनऊ, पटना, देहरादून और रांची में रहेगी हल्की धूप।...
  • पढ़ें आज के हिन्दुस्तान में शशि शेखर का ब्लॉग: पानी चुनावी मुद्दा क्यों नहीं?
  • आज का हिन्दुस्तान अखबार पढ़ने के लिए क्लिक करें।
  • राशिफलः मिथुन राशिवाले आत्मविश्वास से परिपूर्ण रहेंगे और परिवार का सहयोग...
  • Good Morning: BMC चुनाव: कांग्रेस ने शिवसेना को समर्थन देने से किया इंकार, चुनाव आयोग ने...

पहाड़ में लगाए जाएं लघु उद्योग

बागेश्वर, हमारे संवाददाता First Published:19-10-2016 10:38:09 PMLast Updated:19-10-2016 10:38:09 PM
पहाड़ में लगाए जाएं लघु उद्योग

गांव बचाओ यात्रा के अगुवा और पर्यावरण विद डा. अनिल जोशी ने कहा कि पहाड़ में जैविक खेती हो रही है। इसी तरह के लघु उद्योग भी लगने चाहिए। जिससे पहाड़ की जवानी और पानी को रोका जा सकेगा। बेरोजगारी और पलायन भी काफी हद तक रूकेगा।

आगेर्निक फैक्ट्री का शिलान्यास

डॉ जोशी पुरड़ा में हिम ऑर्गनिग फैक्ट्री का शिलान्यास कर रहे थे। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड राज्य आंदोलन इसलिए किया गया था, कि पहाड़ के लोग महानगरों में धूल नहीं फांकेंगे। पहाड़ में छोटे उद्योग लगेंगे। लोगों को स्थानीय स्तर पर रोजगार मिलेगा। उन्होंने कहा कि हमारी सरकारों ने इस ओर ध्यान नहीं दिया है। कुछ पहाड़ के सचेतक इस ओर कदम बढ़ा रहे हैं, उनका स्वागत करना होगा। उन्होंने राज्य आंदोलनकारी हेम पंत की हिम ऑर्गनिग फैक्ट्री का शिलान्यास किया। उन्होंने कहा कि जैविक खेती के साथ ही जैविक सामान भी बनाया जा रहा है। जिससे स्थानीय लोगों को रोजगार मिलेगा।

फैक्ट्री से जुड़ हैं 2500 किसान

हेम पंत ने कहा कि कहा कि पहाड़ के मडूवा, गौहत, मॉस, मसूर राजमा, सोयाबीन, लाल चावल, भूरा चावल, मसाले और सात प्रकार के आचार वे बना रहे हैं। जिनका उत्पादन वृहद रूप में करने के लिए नई फैक्ट्री लगाई जा रही है। उन्होंने कहा कि उनसे 2500 किसान सीधे तौर पर जुड़े हुए हैं।

50 से अधिक युवाओं को वर्तमान में नौकरी मिली है। फैक्ट्री लगने से और रोजगार के अवसर बढ़ेंगे। उन्होंने कहा कि सर्फि जैविक उत्पादन ही होगा। उन्होंने बताया कि ग्रीन टी, लेमन टी समेत हरवल टी का भी उत्पादन उनकी फैक्ट्री करेगी। उन्होंने कहा कि वे कुछ गांवों से पलायन रोकने की नियत से यह कर रहे हैं। गांवों की आर्थिक स्थिति को मजबूत किया जाएगा। पदम् श्री डा. अनिल जोशी के नेतृत्व में बागेश्वर में रैली निकाली गई और गरुड़ में सभा की गई।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: small scale industry should be developed in hilly areas
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
Jharkhand Board Result 2016
क्रिकेट स्कोरबोर्ड