class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भाजपा नरकंकालों पर राजनीति न करे

भाजपा नरकंकालों पर राजनीति न करे

भारतीय जनता पार्टी केदारघाटी में मिल रहे नर कंकालों को लेकर सियासत कर रही है। कांग्रेस पर आरोप लगाने से पहले उसे अपने नेता विजय बहुगुणा से पूछना चाहिए, जो उस वक्त मुख्यमंत्री थे। उनकी अनियमितताओं के चलते ही उन्हें पद से हटाया गया। यह बात बुधवार को दर्जा राज्यमंत्री और उत्तराखंड कांग्रेस के मुख्य प्रचारक धीरेंद्र प्रताप ने कलक्ट्रेट में पत्रकारों से बातचीत में कही। 

भाजपा को माफी मांगनी चाहिए

धीरेंद्र ने कहा कि नरकंकाल पर राजनीति करना ठीक नहीं।भाजपा को इसके लिए माफी मांगनी चाहिए। उन्होंने कहा कि भाजपा आपदा का पैसा कैलाश खेर को देने का अरोप लगा रही है, लेकिन भाजपा को गुजरात और केंद्र सरकार को देखना चाहिए। जहां उनकी सरकार है, वहां जनता के करोड़ों रुपये प्रचार में फूंके जा रहे हैं।

राज्यपाल पर भी निशाना 

धीरेंद्र प्रताप ने राज्यपाल पर निशाना साधते हुए आरोप लगाया कि राज्यपाल आंदोलनकारियों को नौकरी में 10 फीसदी आरक्षण देने का बिल लटकाए हैं। राज्यपाल की हठधर्मिता से राज्यआंदोलनकारियों को आरक्षण नहीं मिल पाया है। उन्होंने कहा कि सरकार राज्य आंदोलनकारियों को 3100 रुपये प्रतिमाह पेंशन देने जा रही है। इसके लिए सरकार ने 35 करोड़ रुपये जारी कर दिए हैं।

दिवाली तक राज्यआंदोलनकारियों को पेंशन दे दी जाएगी। पीडीएफ के सवाल में धीरेंद्र प्रताप ने कहा कि पीडीएफ का पटाक्षेप दिल्ली में हो गया है। अब पीडीएफ सदस्यों को तय करना है कि उन्हें चुनाव किसके चिन्ह पर लड़ना है। इस दौरान चिह्नित आंदोलनकारी समिति अध्यक्ष जेपी पांडे, सावित्री नेगी, नवीन नैथानी, श्याम लाल सिंह मौजूद रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:bjp should not do politics on skeleton issue