शुक्रवार, 31 जुलाई, 2015 | 06:32 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    ना 'पाक' हरकतों से नहीं बाज आ रहा है पाकिस्तान, फिर किया सीजफायर का उल्लंघन, 1 जवान शहीद देश में केवल 17 व्यक्तियों पर 2.14 लाख करोड़ का कर बकाया  2022 तक आबादी में चीन को पीछे छोड़ देगा भारत  झारखंड में दिसंबर तक होगी 40 हजार शिक्षकों की नियुक्तियां महिन्द्रा सितंबर में पेश करेगी एसयूवी टीयूवी-300  नेपाल: भारी बारिश के बाद भूस्खलन, 13 महिलाओं समेत 33 की मौत, 20 से अधिक लापता पेट्रोल-डीजल के दामों में हो सकती है कटौती, 1 रुपये 50 पैसे तक घट सकते हैं दाम नागपुर की सेंट्रल जेल में 1984 के बाद पहली बार दी गई फांसी पढ़ें 1993 में हुए सीरियल बम ब्लास्ट से अब तक का घटनाक्रम निर्दोषों को आतंकी कहा जा रहा है, मैं धमाकों का जिम्मेदार नहीं: याकूब
अश्विनी आदि हैं गण्ड मूल के नक्षत्र
First Published:25-03-2013 10:18:37 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

गण्ड मूल के नक्षत्रों में जन्म लेने वाले जातकों पर क्या प्रभाव पड़ता है?
- कुसुमलता, झरिया, झारखंड
‘जातका भरणम’, ‘जातक पारिजात’ और ‘ज्योतिष पाराशर’ ग्रंथों में गण्डांत या गण्ड मूल नक्षत्रों का उल्लेख है। मुख्यत: वे नक्षत्र, जिनसे राशि और नक्षत्र दोनों का ही प्रारम्भ या अंत होता है, वे इस श्रेणी में आते हैं। इस तरह अश्विनी, आश्लेषा, मघा, ज्येष्ठा, मूल और रेवती नामक नक्षत्र गण्ड मूल नक्षत्र हैं। इन सभी नक्षत्रों के स्वामी या तो बुध हैं या केतु। शास्त्रों में इन सभी नक्षत्रों में जन्म लेने वाले जातकों के लिए जन्म से ठीक 27वीं तिथि को मूल शांति आवश्यक बताई गई है। वैसे इन नक्षत्रों में जन्म लेने वाले जातकों के जीवन में किसी तरह की नकारात्मक स्थिति होती है, ऐसा नहीं है। लेकिन इन जातकों के लिए धन-हानि और अर्जित निधि को खोने की आशंकाएं बनी रहती है। अश्विनी, मघा और मूल नक्षत्र के चतुर्थ चरण में जन्म लेने वाले जातक जीवन में सफल होते हैं, वहीं रेवती नक्षत्र के तृतीय चरण में जन्म लेने वाले जातक भाग्यशाली होते हैं।

अष्टगंध क्या है? इसका क्या महत्व है?
- प्रभु दयाल, बक्सर, बिहार
कर्मकांड और भिन्न-भिन्न देवी-देवताओं के यंत्र को लिखते समय अष्टगंध का प्रयोग होता है। अष्टगंध जैसा कि नाम से जाहिर है, आठ प्रकार की वस्तुओं को मिला कर ही बनता है। लेकिन विद्वानों में इसे लेकर मतभेद हैं। शैव संप्रदाय के लोग इनमें ये वस्तुएं प्रमुख मानते हैं- चंदन, अगरू, कपरूर, तमाल, पानी या जल, कंकु, कुशीत और कुष्ठ। इसके ठीक विपरीत- कुंकुम, अगरू, चंद्रभाग, कस्तूरी, त्रिपुरा, गोरोचन, तमाल और जल को बराबर-बराबर हिस्सों में मिला कर बनने वाली वस्तु को अष्टगंध कहते हैं। शाक्त और कहीं-कहीं शैव इसे ही अष्टगंध के रूप में स्वीकार करते हैं। वैष्णवों को चंदन, अगरू, हीरवेर, कुष्ठ, कुंकुम, सेव्यका, जटामांसी और मुर द्वारा बनाई गई अष्टगंध सर्वाधिक प्रिय है। कालिकापुराण में इसका विस्तार से वर्णन है। बिल्कुल चूर्ण की बनी हुई, आग में भस्म के रूप में बदल चुकी हो या फिर अच्छी तरह छान कर बनाई गई गंध देवी-देवताओं को विशेष प्रकार का सुख प्रदान करने वाली मानी गई है।
(इस दूसरे प्रश्न का समाधान पं. भानुप्रतापनारायण मिश्र ने दिया है)

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingपे टीएम ने बीसीसीआई से 2019 तक प्रायोजन अधिकार खरीदे
पे टीएम के मालिक वन97 कम्युनिकेशंस ने आज भारत में अगले चार साल तक होने वाले घरेलू और अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैचों के अधिकार 203.28 करोड़ रूप में खरीद लिए।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड