शनिवार, 05 सितम्बर, 2015 | 15:46 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
पूर्व सैनिकों ने कहा है कि सरकार ने हमारी केवल एक मांग मानी है, 6 मांगों को खारिज कर दिया है, हमारा विरोध प्रर्दशन जारी रहेगावन रैंक वन पेंशन पर वीआरएस का प्रस्ताव पूर्व सैनिकों ने नामंजूर किया, 5 साल में समीक्षा मंजूर नहीं, वीआरएस पर सरकार से सफाई मांगेंगेएरियर चार किश्तों में दिया जाएगाः पर्रिकरपिछली सरकार ने ओआरओपी के लिए बहुत कम बजट रखा थाः पर्रिकर2013 को ओआरओपी के लिए आधार वर्ष माना जाएगाः पर्रिकरवीआरएस लेने वाले ओआरओपी से बाहर होंगेः पर्रिकरवन रैंक वन पेंशन से सरकार पर आएगा दस हजार करोड़ अतिरिक्त वित्तीय भारवन रैंक वन पेंशन का एलान, रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने किया एलान
कम उम्र में ज्यादा बदलाव कितना उचित?
First Published:12-04-2012 09:53:35 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

युवा पीढ़ी जोखिम लेने में यकीन रखती है और अपनी जानकारी में विस्तार करने के लिए नए क्षेत्रों को आजमाने में संकोच नहीं करती। लेकिन प्रश्न यह है कि क्या जल्दी-जल्दी नौकरी या करियर बदलना उचित है?

आपको अपने आसपास कई ऐसे लोग मिल जाएंगे, जिन्होंने जिस कंपनी में काम किया, वे वहीं के होकर रह गए। पहले इसे व्यक्ति की संगठन के प्रति वफादारी के तौर पर जाना जाता था, पर अब ऐसा नहीं है। पीआर कंपनी पेसमीडिया माइलस्टोन के मैनेजिंग डायरेक्टर दीप गुप्ता के अनुसार, ऐसा करने में कोई बुराई नहीं है।’ 29 वर्षीय दीप गुप्ता युवा उद्यमी हैं, पर इतनी उम्र में वे तीन नौकरी बदलने के साथ-साथ अपना करियर बदल चुके हैं। दीप के अनुसार, ‘जॉब शिफ्ट करना जरूरी है। इससे बहुत कुछ सीखने को मिलता है। लंबे समय तक एक ही संस्थान में रहना अच्छा विचार नहीं है, क्योंकि एक पॉइंट पर आकर आपका विकास रुक जाता है और आप एक ही तरह के काम का दोहराव करते रह जाते हैं। नौकरी बदलने के साथ सिर्फ प्रोजेक्ट ही नहीं बदलते, कार्य परिवेश भी बदल जाता है। आप नए लोगों से मिलते हैं और नई चीजें सीखते हैं। हर नया बदलाव आपको कुछ सिखाता है और आप एक बेहतर डील की ओर कदम बढ़ाते हैं।

पैसा और अनुभव
समान इंडस्ट्री में नौकरी बदलना आपको वेतन में बढ़ोतरी करने का अवसर देता है, वहीं करियर को बदलना कई तरह के बदलाव लाता है। बेंग्लुरू में कार्यरत एक प्रोफेशनल जयंत जगदीश अब तक तीन करियर और चार नौकरी बदल चुके हैं। इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने के बाद उन्होंने एक भारतीय बहुराष्ट्रीय कंपनी में बतौर सॉफ्टवेयर इंजीनियर काम करना शुरू किया। उसके बाद वे एजुकेशन मैनेजमेंट के क्षेत्र में आ गए और फिर पीआर का काम करने लगे। उनके अनुसार, एक जगह काम करते हुए आप इतनी स्किल्स नहीं सीख सकते, जितना आप कई तरह की नौकरियों में सीखते हैं। आप अलग-अलग तरह के लोगों से मिलते हैं, टीम में बदलाव होता है, आपका अनुभव और जानकारी का स्तर बदल जाता है।

कंपनी के प्रति वफादारी
जल्दी-जल्दी नौकरी बदलने की प्रक्रिया पर सबसे पहला सवाल आमतौर पर जॉब इंटरव्यू के दौरान देखने को मिलता है। आपने नौकरी क्यों बदली, आप जब किसी कंपनी में टिककर काम नहीं करना चाहते तो कंपनी आपका चुनाव क्यों करे आदि? आमतौर पर पुरानी सोच से जुड़े लोग जल्दी-जल्दी नौकरी बदलने को अच्छा नहीं मानते। इसे उम्मीदवार की नए माहौल और लोगों के साथ तालमेल नहीं बिठा पाने की कमी के तौर पर देखा जाता है, पर सभी लोग ऐसा नहीं मानते। कोका कोला एचआर के वाइस प्रेसिडेंट समीर वधावन के अनुसार ‘जल्दी-जल्दी नौकरी बदलने का प्रभाव जानने के लिए यह देखा जाना चाहिए कि इसका प्रभाव उम्मीदवार के करियर ग्राफ पर कैसा पड़ा है। उम्मीदवार के चुनाव का मुख्य आधार उम्मीदवार का एटीट्यूड, वेल्यू व उसके जरिए कंपनी को होने वाला फायदा होता है, पर कुछ नुकसान भी देखने को मिल सकते हैं। एक बार किसी इंडस्ट्री या कंपनी से बाहर जाने के बाद वापसी करना मुश्किल होता है। यदि नौकरी बदलने का कारण अच्छा वेतन है तो समझदारी से लिए गए फैसले निश्चित ही इस मकसद में आपकी मदद कर सकते हैं। साथ ही नए परिवेश में काम करना आपकी जानकारी को भी बढ़ाता है।
शाइन से

 

 

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingटीचर्स डे पर तेंदुलकर ने आचरेकर सर को ऐसे किया 'सलाम'
मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर के नाम इंटरनेशनल क्रिकेट के बल्लेबाजी के लगभग सभी बड़े रिकॉर्ड्स दर्ज हैं। तेंदुलकर को क्रिकेट के भगवान तक का दर्जा दिया गया है, लेकिन इन सबके पीछे एक इंसान का सबसे बड़ा योगदान रहा है, तेंदुलकर के गुरु रमाकांत आचरेकर।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड Others
 
Image Loading

अलार्म से नहीं खुलती संता की नींद
संता बंता से: 20 सालों में, आज पहली बार अलार्म से सुबह-सुबह मेरी नींद खुल गई।
बंता: क्यों, क्या तुम्हें अलार्म सुनाई नहीं देता था?
संता: नहीं आज सुबह मुझे जगाने के लिए मेरी बीवी ने अलार्म घड़ी फेंक कर सिर पर मारी।