बुधवार, 30 जुलाई, 2014 | 20:41 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    बिहार में जदयू, राजद, कांग्रेस में चुनावी गठबंधन बिहार में जदयू, राजद, कांग्रेस में चुनावी गठबंधन बिहार में जदयू, राजद, कांग्रेस में चुनावी गठबंधन महाराष्ट्र भूस्खलन में 15 मरे, बचाव अभियान जारी फारूक समेत 16 पूर्व मंत्रियों ने नहीं किए बंगले खाली संसद में अगले सप्ताह पेश होगा न्यायिक नियुक्ति विधेयक...!  सुबहान: कॉरपोरेट शख्सियतों को अगवा करने की थी योजना  जॉन कैरी की यात्रा से पहले नरेंद्र मोदी ने की अहम बैठक नरेंद्र मोदी, सोनिया और राहुल गांधी पर सुनवाई अगले सप्ताह  आईएएस अधिकारी को मुख्य सचिव ने मैसेज भेज धमकाया
 
फिल्म रिव्यू: राजधानी एक्सप्रेस
First Published:04-01-13 07:19 PM
Last Updated:05-01-13 12:00 PM
 imageloadingई-मेल Image Loadingप्रिंट  टिप्पणियॉ: (0) अ+ अ-

कलाकार: लिएंडर पेस, प्रियांशु चटर्जी, सुंधाशु पांडे, पूजा बोस, जिम्मी शेरगिल, गुलशन ग्रोवर, मुकेश ऋषि
निर्देशक: अशोक कोहली
इस फिल्म का एक सीन.. राजधानी एक्सप्रेस (दिल्ली-मुंबई) का  एसी फस्र्ट क्लास कोच। केबिन में तीन पुरुष यात्री और उनके बीच एक दिलकश युवती। पुरुषों में एक फैशन डिजाइनर है, दूसरा लेखक और तीसरा एक गुंडा। थोड़ी देर में पता चलता है कि युवती एक आईटम गर्ल है और पार्ट टाइम कालगर्ल भी। वो ये काम मजबूरी में करती है और उन तीनों में से एक पुरुष को अपने ग्राहक के रूप में पटा भी लेती है। देखते ही देखते केबिन में व्हीस्की का दौर शुरू हो जाता है। सब अपनी-अपनी बोतलें निकाल लेते हैं। युवती को उन गैर मर्दों संग शराब पीने में कोई हिचक नहीं है। पीने में क्या उसे तो उनके सामने कपड़े बदलने में दिक्कत नहीं है।

इन बातों को पढ़कर अब किसका दिल न करेगा कि वह कम से कम एक बार राजधानी के फस्र्ट क्लास एसी यान में सफर करे? ये फिल्म टेनिस स्टार लिएंडर पेस को बतौर हीरो लांच करने के लिए बनाई गयी है। अभिनय में हाथ आजमाने में कोई बुराई नहीं है। खिलाड़ियों के खेमे से बहुतेरे ऐसे पहले कर चुके हैं। लेकिन लिएंडर को स्क्रीन पर देख बार-बार यही ख्याल आता है कि भइय्या, ऐसा विचार किस बुरी घड़ी में आया था। एक खराब फिल्म में अच्छे भले कलाकार भी बुरे भले नजर आने लगते हैं, यकीन नहीं होता तो राजधानी एक्सप्रेस जरूर देखें। जिम्मी शेरगिल का ही उदाहरण लीजिए। वो इस फिल्म क्या कर रहे हैं, समझ से परे है। उनके साथ इंस्पेक्टर का रोल कर रही शिल्पा शुक्ला को भी देख यही लगता है। फिल्म में थोड़ा बहुत बांधे रखने का काम किया है प्रियांशु चटर्जी और गुलशन ग्रोवर ने।

दरअसल, फिल्म में कहानी नाम की कोई चीज ही नहीं है। निर्देशक अशोक कोहली लिएंडर पेस के किरदार केशव से कहलवाना तो बहुत कुछ चाहते हैं, लेकिन कुछ भी कहलवा नहीं पाते। लिएंडर के हर दूसरे सीन के साथ दिखाया जाने वाला फ्लैशबैक फिल्म को ले डूबा है। ट्रेन के डिब्बे में फिल्माए गये सीन बहुत लंबे और झल्ला देने वाले हैं। इस राजधानी एक्सप्रेस की यात्रा की टिकट मुफ्त में भी मिले तो तौबा करना ही बेहतर होगा।

 
 imageloadingई-मेल Image Loadingप्रिंट  टिप्पणियॉ: (0) अ+ अ- share  स्टोरी का मूल्याकंन
 
टिप्पणियाँ
 

लाइवहिन्दुस्तान पर अन्य ख़बरें

आज का मौसम राशिफल
अपना शहर चुने  
धूपसूर्यादय
सूर्यास्त
नमी
 : 05:41 AM
 : 06:55 PM
 : 16 %
अधिकतम
तापमान
43°
.
|
न्यूनतम
तापमान
24°