class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इबोबी को बागियों से चुनौती

मणिपुर में लगातार चौथी बार जीत का परचम फहराने की कोशिश में जुटे कांग्रेस के ओकराम इबोबी सिंह के लिए इस बार  राह आसान नहीं है। चुनौती सिर्फ विपक्षी दलों से ही नहीं बल्कि साथ छोड़कर जा चुके कुछ ‘अपनों’ से भी है।

पिछले साल राज्य में कई विधायक ने मुख्यमंत्री इबोबी सिंह के खिलाफ मोर्चा खोल दिया था। कुल 48 कांग्रेसी विधायकों में 25 प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गायखांगम को हटाने की मांग पर अड़ गए थे। इसके बाद पार्टी हाईकमान को प्रदेश अध्यक्ष को बदलना पड़ा था।

भाजपा ने 31 उम्मीदवारों की पहली सूची जारी की है। इसमें कांग्रेस के कई पूर्व विधायक भी शामिल हैं। एन. बीरेन सिंह अक्टूबर, 2016 में कांग्रेस छोड़ने से पहले मुख्यमंत्री ओकराम इबोबी सिंह  के सबसे विश्वासपात्र साथियों में से एक हुआ करते थे। 2002 से विधायक रहे बीरेन सिंह लंबे समय तक इबोबी सिंह के साथ रहे और राज्य सरकार में कई बार मंत्री पद संभाला। मगर पिछले साल अक्टूबर में उन्होंने अचानक कांग्रेस छोड़कर भाजपा का दामन थाम लिया।

इसी तरह भाजपा ने कांग्रेस के एक और अनुभवी नेता ई. इराबोत को भी चुनाव में उतारा है। जनता में इराबोत के प्रति काफी सम्मान है। इस बार चुनावों में कांग्रेस को उनकी कमी खलेगी। इसके अलावा फ्रांसिस गजोपा व किखोनबोऊ न्यूमई भी चुनाव मैदान में हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ibobi challenge from rebels