class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अच्छे अनुवादकों के लिए मौके हजार

साल 1990 से ही अनुवाद ने कथा-साहित्य की दुनिया से आगे निकल कर एक बाजार का रूप लेना शुरू कर दिया था। इंटरनेट ने भाषा की बाधाएं दूर करते हुए अंग्रेजी भाषा का एकछत्र दबदबा भी समाप्त किया। आज विश्व की हरेक भाषा के अनुवादकों की जरूरत है और इसे एक फुल-टाइम पेशे के रूप में देखा जा रहा है।

अनुवाद उद्योग का विस्तार 
आज कई ट्रांसलेशन एजेंसिया खुल गई हैं, जो अनुवादकों का पैनल अपने साथ रखती हैं, जो मल्टीनेशनल कंपनियों या औद्योगिक इकाइयों से अनुवाद का काम लेती हैं। आयात-निर्यात भी अनुवाद के बिना संभव नहीं है। मल्टीनेशनल कंपनियों से लेकर कॉर्पोरेट हाउस, पर्यटन उद्योग, फिल्म उद्योग व बाजार के हर आयाम में अच्छे अनुवादकों ही नहीं, इंटरप्रिटर की जरूरत बढ़ी है। आज एमबीए, सीए की पढ़ाई के दौरान छात्रों को अनुवाद का प्रशिक्षण भी दिया जा रहा है। 

’कम्युनिकेशन टेक्नोलॉजी के कारण अब घर बैठे अनुवाद का काम मिल जाता है। दुनिया के अधिकतर देशों में विभिन्न भाषाएं सिखाने के सरकारी और गैर-सरकारी केंद्र खुल रहे हैं। अनुवाद के महत्व को समझते हुए हमारे देश के जेएनयू, इग्नू जैसे शीर्ष संस्थान इसमें एम.फिल, पीएचडी भी करा रहे हैं। दिल्ली विश्वविद्यालय में जहां पहले से अनुवाद में डिप्लोमा और डिग्री स्तर पर कोर्स चल रहे हैं, वह भी अनुवाद में उच्च अध्ययन को महत्व दे रहा है।

नई भाषाएं सीखना हुआ आसान
विदेशी भाषाओं में अनुवाद सिखाने में देश के अनेक शीर्ष शैक्षिक संस्थानों के अलावा www.livemocha.com AüS www.buzuu.com जैसी ऑनलाइन भाषा सिखाने वाली वेबसाइट्स भी लोकप्रिय हो रही हैं। भारत सरकार का नेशनल ट्रांसलेशन मिशन देश के साहित्यिक-सांस्कृतिक व व्यापारिक हितों को साधने के लिए बाकायदा क्षेत्रीय भाषाओं में अनुवाद का प्रशिक्षण दे रहा है।

अनुवादकों के लिए ऑनलाइन अवसर
ऑनलाइन अनुवाद का कार्यक्षेत्र विश्वभर में फैला है। यहां वेबसाइट्स, ऑनलाइन अनुवाद के बदले अच्छा भुगतान भी दे रही हैं। आज देशी-विदेशी कई वेबसाइट्स हैं, जो सिर्फ अनुवादकों के लिए जॉब्स के बेहतर अवसर बताती हैं। जैसे www.itbtranslations.com (मिशिगन),
www.translatorsiowa.com (यूक्रेन), 
www.k-international.com (ब्रिटेन)
www.multilingualvacancies.com,
www.totaljobs.com  

इन क्षेत्रों में हैं नौकरी के अवसर
आप अपनी रुचि के अनुसार शिक्षा व अन्य मंत्रालयों की वेबसाइट्स देख सकते हैं, जहां जूनियर और सीनियर स्तर पर अनुवादकों के लिए अवसर निकलते रहते हैं। विदेश मंत्रालय समय-समय पर रोजगार समाचार पत्रों पर रिक्तियां निकालता है। यहां फुल-टाइम, पार्ट-टाइम अनुवादकों के साथ बाहरी स्रोतों के जरिये अनुवाद का काम कराया जाता है। संसद, एम्बेसी, सेंट्रल ट्रांसलेशन ब्यूरो में अनुवादकों की जरूरत रहती है।

भारतीय प्रकाशकों के साथ-साथ ऑक्सफोर्ड, रेंडम हाउस, कैम्ब्रिज, पियरसन जैसे प्रकाशन भी अनेक भाषाओं में अनुवाद की हुई रचनाएं प्रकाशित कर रहे हैं। यहां अच्छे अनुवादकों की जरूरत रहती है। यूनेस्को, यूनिसेफ, यूएनओ जैसे अंतर्राष्ट्रीय संगठनों में भी अनुवादकों की मांग है। दिल्ली स्थित इंडियन नेशनल साइंटिफिक डॉक्युमेंटेशन सेंटर(आईएनएसडीओसी) में तकनीकी अनुवादकों के लिए कई अवसर हैं। 

अनुवादक किन बातों का रखें ध्यान
तकनीकी शब्दों को सीखें।
लेखन-कौशल के साथ किन्हीं दो भाषाओं की समझ होनी जरूरी है।
भाषा की समझ विकसित करने के लिए उस भाषा का साहित्य पढ़ें।
कम समय में सहज, सटीक अनुवाद करने का अभ्यास करें। 

बाजार में कैसे जगह बनाएं
अपने आसपास के क्षेत्र में ट्रांसलेशन एजेंसीज का पता लगाएं और उसके अनुरूप अपना रेज्यूमे तैयार करें।
किसी ऐसे विषय या क्षेत्र में खुद को बेहतर बनाएं, जहां बेहतर अनुवादकों की कमी है।
आप जिस किसी भाषा के अनुवादक हैं, उसमें हाल-फिलहाल हुए विकास से खुद को अवगत रखें।
अगर आप एक अच्छे अनुवादक के रूप में खुद को स्थापित कर पाएं तो इंडियन नेशनल साइंटिफिक डॉक्युमेंटेशन सेंटर, दिल्ली में पंजीकृत हो सकते हैं। 
(हमारे विशेषज्ञ : प्रो. पूरन चंद टंडन, हिंदी डिपार्टमेंट, दिल्ली विश्वविद्यालय। प्रवीण शर्मा, भूतपूर्व, असिस्टेंट डायरेक्टर, सेंट्रल ट्रांसलेशन ब्यूरो, मिनिस्ट्री ऑफ होम अफेयर्स, भारत सरकार)

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: thousands of opportunities for good translators