class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एचईसीकर्मियों को बैंक भेजने लगे कानूनी नोटिस

एचईसीकर्मियों को बैंक भेजने लगे कानूनी नोटिस

एचईसी के कर्मियों और पूर्व कर्मियों की परेशानी हर दिन बढ़ती जा रही है। खास कर लीज के क्वार्टरों में रहने वालों की। ऐसे कर्मचारी जो रिटायर कर रहे हैं, उन्हें लोन की बकाया राशि जमा नहीं करने पर बैंकों से नोटिस भेजा जा रहा है। 31 मार्च तक राशि जमा नहीं करने पर कानूनी कार्रवाई शुरू करने की चेतावनी दी गई है। कई कर्मचारियों को यह नोटिस मिला है।

एचईसी के क्वार्टरों को लीज पर लेने के लिए बैंकों ने लोन दिया था। हर माह वेतन से उनकी किस्त काट कर बैंकों में जमा की जाती थी। ऐसे कर्मचारियों का गारंटर खुद एचईसी प्रबंधन था। इसमें यह शर्त भी थी कि यदि कर्मचारी रिटायर हो जाता है, तो उसकी ग्रेच्युटी से संपूर्ण बकाया राशि काट कर बैंक में जमा कर दी जाएगी। कुछ माह से एचईसी ग्रेच्युटी का भुगतान नहीं कर रहा है। न ही बैंक में ही पैसा जमा कर रहा है। दिसंबर से यह राशि बैंक में जमा नहीं हो रही है। इस कारण बैंकों से इस बकाया जमा करने का नोटिस दिया जा रहा है। सेक्टर तीन में रहने वाले शंकर रविदास को यूनियन बैंक की ओर से यह नोटिस मिला है। उन्हें 31 मार्च तक बकाया जमा करने को कहा गया है। ऐसा नहीं किए जाने पर बैंकों के प्रावधानों के तहत उन पर कानूनी कार्यवाही करने की बात भी नोटिस में कही गई है।

पेनाल्टी भी देना पड़ा है

एचईसी कर्मियों का वेतन नियमित नहीं होने के कारण समय पर इएमआई भी जमा नहीं हो पाता है। इस कारण बैंकों में उन्हें पेनाल्टी भी देना पड़ता है। अब ग्रेच्युटी से राशि काट कर जमा नहीं किए जाने पर कानूनी कार्यवाही का सामना भी करना पड़ रहा है।

प्रबंधन की है जवाबदेही

हटिया कामगार यूनियन के लालदेव सिंह ने कहा कि प्रबंधन की नीतियों में खामियों के कारण कामगारों को इस स्थिति का सामना करना पड़ रहा है। बैंकों को इसकी वसूली प्रबंधन से करना चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:banks issues legal notice to hec employee